इस्लाम के बाद इसाई मिशनरियों का हिंदुत्व पर बड़ा हमला, स्वामी विवेकानंद को बताया वैश्या पुत्र और…

99

दिल्ली: ‘इसाई मिशनरियों’ द्वारा हिन्दुओं का धर्म परिवर्तन कराने की खबरे निरंतर सुर्ख़ियों में रहती है. ईसाईयों के लिए इतना ही काफी नही था की अब उन्होंने क्रिसमस के मौके पर हिन्दू आस्था चिन्हों पर प्रहार करना और धमकी भरे पत्र भेजना शुरू कर दिया है!

ईसाई धर्मांधताओं ने 'स्वामी विवेकानंद' को वेश्यापुत्र बताते हुए, सनातन संस्था को दे डाली ये भयंकर चेतावनी..Image Source
इस ही श्रृंखला में ईसाईयों की एक और करतूत सामने आई है, मामला गोवा का है, यहाँ एक ईसाई मिशनरि ने सनातन संस्था के गोवा में फोंड्स स्थित मुख्य कार्यालय के आश्रम में सनातन संस्था के प्रवक्ता श्री. चेतन राजहंस को एक धमकी भरा पत्र डाक से भेजा है.

यह धमकी भरा पत्र लिखने वाले ने अपना नाम ‘जेम्स अण्णामलाई’ बताया है, अचेतन हंसराज को भेजे गए पत्र में जेम्स ने अपना फ़ोन नंबर भी दिया है. उसने पत्र में लिखा है की मेरा नाम जेम्स अण्णामलाई है और मैं बैंगलोर का रहने वाला हूँ. मैं हमेशा से स्वामी विवेकानंद और हिन्दुओं के खिलाफ हूँ. जेम्स अण्णामलाई ने इस पत्र में स्वामी विवेकानंद को एक वेश्या का पुत्र बताया और साथ ही डॉ. आठवले को उनके ही आश्रम स्थित  कार्यालय में घुस कर मारने की धमकी दी है.

इस ईसाई व्यक्ति के लिए सिर्फ इतना ही काफी नही था की उसने सनातन के आश्रम की सभी लडकियों को चेतावनी देते हुए कहा की, मैं आश्रम की सभी लडकियों के साथ बलात्कार करूंगा और भारत में क्रिश्‍चैनिटी स्थापित करूंगा.

इस धमकी भरे पत्र को लेकर सनातन संस्था के प्रवक्ता श्री. चेतन राजहंस ने इस मामले की शिकायत पुलिस में दर्ज कराई है. सनातन संस्था ने इस धर्मांध ईसाई(जेम्स अण्णामलाई) के खिलाफ इस गंभीर मामले को लेकर कठोर से कठोर कार्रवाई करने की मांग की है.

ईसाई धर्मांधताओं ने 'स्वामी विवेकानंद' को वेश्यापुत्र बताते हुए, सनातन संस्था को दे डाली ये भयंकर चेतावनी..
श्री. चेतन राजहंस गोवा स्थित सनातन के आश्रम में सनातन संस्था के प्रवक्ता है.Image Source

श्री. चेतन राजहंस का कहना है की सनातन के आश्रम में घुसकर डॉ. आठवले जी की हत्या करने की बात इस ईसाई(जेम्स अण्णामलाई) की आतंकवादी मनोवृत्ति दर्शाती है और आश्रम की सभी कन्याओं के साथ बलात्कार करने की बात से उनकी विकृत मानसिकता स्पष्ट होती है.

उन्होंने कहा की जेम्स अण्णामलाई ने स्वामी विवेकानंद को वेश्यापुत्र बताकर केवल उनका अपमान नही किया अपितु पुरे हिन्दू धर्म का भी अपमान किया है.

भारत में क्रिश्‍चैनिटी स्थापित करना जेम्स अण्णामलाई की धर्मांधता है. इस तरह का व्यक्ति समाज के लिए अत्यंत घातक है. इसलिए हमारी मांग है कि, इस व्यक्ति पर तत्काल कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए.

हम आपको बता दे की गोवा में 25 दिसंबर से नाताळ (क्रिसमस) बडी मात्रा में शुरू हो रहा है. क्रिसमस की पूर्वसंध्या पर ईसाइयों के द्वारा इस प्रकार का धमकी भरा पत्र हिन्दुत्ववादी सनातन संस्था के आश्रम के लिए बेहद घातक है. सनातन संस्था का कहना है की  मामले को लेकर जल्द से जल्द कार्रवाही की जाए.

Loading...