राजपूत बनाम जाट की जंग से हीरो बने हनुमान बेनीवाल का राजस्थान की राजनीति में बड़ा दांव

178

कभी 2003 में भाजपा की टिकट पर विधायक बने हनुमान बेनीवाल अब बनाने जा रहे हैं अलग राजनीतिक पार्टी !

RN Times: Rajasthan प्रदेश की राजनीति में तेज़ी से उभरते तेज़ तर्रार हनुमान बेनीवाल इस वक़्त नागौर के खींसवर से निर्दलीय विधायक हैं | हनुमान पहली बार  2008 में भाजपा की टिकेट पर खींसवर से विधायक बने थे लेकिन जल्द ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से मतभेदों के चलते  पार्टी से अलग हो गए और  2013 में दोबारा फिर विधायक बने लेकिन इस बार वो निर्दलीय चुनाव लड़कर जीते.

क्या है राजस्थान में हनुमान बेनीवाल की ताकत ?

rajasthan jat leader hanuman beniwal new political party 2018जाट बनाम राजपूत के राजनितिक खेल में हनुमान बेनीवाल नागौर, बाड़मेर, बीकानेर, चुरू तथा सीकर जैसे जाट बाहुल्य क्षेत्र की 50 सीटों पर बड़े खिलाडी बनकर उभरे हैं | हनुमान पिछले काफी समय से प्रदेश में किसान हुंकार रैलियों के जरिये अपनी जबरदस्त पकड़ बना चुकें हैं | हनुमान बेनीवाल ने बताया कि उनकी पार्टी युवाओं को रोजगार, किसानों को पूर्ण कर्ज माफी, कानून व्यवस्था, मुफ्त बिजली तथा मजबूत लोकपाल के मुद्दों को लेकर चुनाव में उतरेगी. इसके साथ ही वह राजस्थान को विशेष दर्जा देने की मांग लेकर चलेगी ताकि राज्य और इसके लोगों को कुछ विशेष राहत मिल सके।   इन मुद्दों पर जो भी गैर कांग्रेसी और  गैर भाजपाई दल उनके साथ आना चाहता है वो उनके साथ मिलकर उसके साथ मिलकर वो तीसरा मोर्चा बनाने की कौशिश  करेंगे |

जल्द ही बेनीवाल करेंगे नई राजनितिक पार्टी बनाने की घोषणा 

बेनीवाल ने कहा कि विधानसभा चुनाव के लिए वह नई पार्टी बनाने जा रहे हैं. इसकी औपचारिक घोषणा जयपुर में एक रैली में की जाएगी. किसानों की खेतों में व्यस्तता को देखते हुए यह रैली अगले महीने के दूसरे पखवाड़े में होगी. पार्टी बन जाने के बाद वो सभी समान  विचारधारा वाले और भाजपा और कांग्रेस विरोधी सभी लोगों को साथ लेकर तीसरे मोर्चे का गठन करेंगे |

loading...