शिया वक्फ बोर्ड के प्रमुख का PM मोदी को लिखित पत्र! इसके बाद सभी मदरसों में मचा हाहाकार

215

10 जनवरी, 2018 – मदरसों को लेकर शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन डाक्टर वसीम रिज़वी का अभी तक का सबसे बड़ा बयान सामने आया है, जिसके बाद मुस्लिम समुदाय में खलबली मच गयी है.

शिया वक्फ बोर्ड के प्रमुख का PM मोदी को लिखित पत्र! इसके बाद सभी मदरसों में मचा हाहाकार
वसीम रिज़वी :
शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वसीम रिजवी ने केंद्र सरकार और सभी राज्य सरकारों को लिखित पत्र लिखा है और मांग कि है जितने भी मदरसे हैं उन सभी को तत्काल ही ख़त्म किया जाय और साथ ही ये भी कहा कि मदरसों को सफाया कर उन्हें स्कूलों में तब्दील किया जाय. इसके बाद इनमें अन्य स्कूलों की तरह पढ़ाई करवाई जाये न कि मजहबी पढ़ाई.

मदरसों में बच्चों को दी जाने वाली सीख पर करारा प्रहार करते हुए वसीम रिजवी ने कहा कि इन्हीं मदरसों से बच्चों और देश का भविष्य बर्बाद हो रहा है क्योंकी इन मदरसों की कमान मुल्लाओं के हाथो में है. वे मदरसों के नाम पर अपना अलग ही धंधा चलाते हैं, चंदा मांगते रहते हैं और इन्हीं मदरसों में आतंकवादी गतिविधियों को भी अंजाम दिया जाता है.

 

इसके बाद वसीम रिजवी ने आगे कहा कि मदरसों से बच्चों का भविष्य नहीं बन रहा बल्कि सिर्फ जाहिलियत, आतंकवाद और कट्टरपंथ पनप रहा है. मदरसों से पढ़कर निकले बच्चे अकसर भटक जाते हैं और कट्टरपंथ, जिहाद, आतंकवाद जैसे रास्ते पर चलने लगते हैं. मदरसों की पढ़ाई बच्चों के भविष्य को खतरे में डालती है साथ ही इससे देश, समाज भी खतरे में पड़ता है.

मदरसों की पोल खोलने के बाद वसीम रिजवी ने मांग करी कि मदरसों को जल्द ही स्कूलों में बदला जाये और वहां पर अन्य स्कूलों की तरह किताबों के माध्यम से पढ़ाई करवाई जाये. अगर मदरसों में मजहबी पढ़ाई के बदले सामान्य पढ़ाई करवाई जाती है तो बच्चे कट्टरपंथ, जिहाद आदि के रास्ते को नहीं चुनेंगे. इतना ही नहीं इसके बाद वसीम रिजवी ने बंगाल के उन मदरसों का भी उदहारण भी दिया जहाँ आतंकवादी, बम आदि बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा था.

loading...