डोकलाम विवाद पर जापान जैसे ही भारत के समर्थन में आया तो बोखलाए चीन ने दी ये भयंकर धमकी

188

बीजिंग : डोकलाम विवाद को लेकर सीमा पर ‘भारत’ और ‘चीन’ के बीच विरोध पिछले दो माह से लगातार जारी है. इस विवाद को देखते हुए जापान ने भारत का साथ देने की बात का एलान किया है. जापान के इस एलान को सुनकर बुरी तरफ बौखला चुका है.

डोकलाम विवाद पर जापान जैसे ही भारत के समर्थन में आया तो बोखलाए चीन ने दी ये भयंकर धमकी

घमंडी चीन ने ‘जापान’ को साफ कहा है कि वह डोकलाम विवाद को लेकर ऐसा कोई बयान ना दे. चीन ने जापान से यह भी कहा है कि, यदि जापान ‘भारत’ का समर्थन करके उसका साथ देना चाहता है तो वह चीन के खिलाफ कोई भी बयान देने से दूर रहे.

चीन के विरुद्ध ‘डोकलाम’ विवाद को लेकर भारत की कूटनीतिक कोशिशों ने रंग दिखाना शुरू कर दिया है. इस मुद्दे पर चीन अंतरराष्ट्रीय बिरादरी में धीरे-धीरे घिरता जा रहा है. ‘अमेरिका के समर्थन के बाद जापान ने भी डोकलाम विवाद को लेकर ‘भारत’ का समर्थन किया है. जापान ने कहा है कि, इस विवाद पर दोनों देश बातचीत के माध्यम से हल करना चाहिए.

डोकलाम विवाद पर जापान जैसे ही भारत के समर्थन में आया तो बोखलाए चीन ने दी ये भयंकर धमकी

विदेश मंत्रालय ने धमकाया

चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ‘हू चुनयांग’ में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा है उन्होंने देखा है किस प्रकार ‘भारत’ में ‘जापान’ के अंबेसडर भारत को सपोर्ट करना चाहते हैं. इसलिए चीन उनको बताना चाहेगा कि, वह ऐसे बिना सोचे समझे कोई बयान न दे और कुछ भी बोलने से पूर्व फेक्ट चेक कर लें.

“हू चुनयांग” ने गुस्से में कहा है कि ‘डोकलाम’ में ऐसा कोई भी बॉर्डर विवाद नहीं है और दोनों देशों को अपनी-अपनी निर्धारित सीमा के बारे में जानकारी है.ऐसी स्थिति में ‘भारत’ की तरफ से स्टेटस क्यू में बदलाव की पहल हुई है न कि ‘चीन’ की तरफ से.

बेहद करीब से देख रहा जापान

“जापान” इस मुद्दे को बेहद ध्यान से देख रहा है. ‘जापान’ का मानना है कि, ‘भारत’ और ‘चीन’ के बीच लगातार जारी गतिरोध पूरे इलाके की स्थिरता को प्रभावित कर सकता है. अभी-अभी चीन के साथ जापान का भी इसी तरह का क्षेत्रीय विवाद चल  रहा है.

जापान की राजधानी टोक्यो का यह मानना है कि विवादित क्षेत्रों में शामिल सभी दलों को बल द्वारा यथास्थिति को बदलने के एकतरफा प्रयासों का सहारा नहीं लेना चाहिए। जापान के इसी रुख के कारण वह चीन की “यथास्थिति को बदलने” की कोशिश की गंभीरता से आलोचना कर रहा है।

बीजिंग को ठहराया था दोषी

जापान के राजदूत ‘केंजी हीरामात्सू’ ने कहा है कि, ‘भारत’ ने 30 जून को यथास्थिति बदलने के लिए बीजिंग को दोषी ठहराया था. केंजी ने कहा है कि, हम समझ सकते है कि, ‘डोकलाम’ इलाके में गतिरोध करीब दो महीने से जारी है. विवादित इलाकों में खास है कि, सभी दलों में बल के माध्यम से यथास्थिति को बदलने की एकतरफा कोशिशों का सहारा नहीं लेना चाहिए और शांतिपूर्णक विवाद को हल करना चाहिए.

भारत को भी दी धमकी

“हू चुनयांग” की बातें यही पर समाप्त नहीं हुई और भारत को यह धमकी भी दी है कि, ‘भारत’ डोकलाम से जल्द ही अपनी कड़ी को वापस बुलाए. हू ने कहा है कि, बिना शर्त वापसी ही आगे किसी भी अर्थपूर्ण बातचीत के लिए दरवाजा खुलेगा.

डोकलाम विवाद पर जापान जैसे ही भारत के समर्थन में आया तो बोखलाए चीन ने दी ये भयंकर धमकी

भारत का किया खुलकर समर्थन

“जापान” पूरे संसार में इकलौता देश है जिसने ‘डोकलाम’ विवाद को लेकर ‘भारत’ का खुलकर साथ दिया है. इससे पहले ‘अमेरिका’ ने इस मामले को दोनों देशों को सीधी बातचीत के माध्यम से सुलझाने को कहा था.

loading...