पाकिस्तान की सामने आई ये खतरनाक चाल! भारत को चुनौती देने के लिए कर रहा है ये प्लान

24

नई दिल्ली : हाल ही ‘पाकिस्तान’ के प्रधानमंत्री ‘शाहिद खाकन अब्बासी’ ने संयुक्त राष्ट्र में कुछ ऐसा बताया था कि, यूएन समेत पूरी दुनिया में हलचल मच गयी थी. पाक पीएम ने बताया था कि, ‘भारत’ के ‘कोल्ड वॉर’ का कड़ी चुनौती देने के लिए हमारे देश ने कम रेंज के परमाणु हथियार विकसित कर लिया है.

पाकिस्तान की सामने आई ये खतरनाक चाल! भारत को चुनौती देने के लिए कर रहा है ये प्लान
शाहिद खाकन अब्बासी

परंतु अब जानकारी प्राप्त हो रही है कि, पड़ोसी इस्लामिक आतंकी देश ‘पाकिस्तान’ अपने परमाणु हथियारों का जखीरा सुरक्षित रखने के लिए सुरंगों का निर्माण करा रहा है और पाकिस्तान द्वारा बनाई जा रही सुरंग ‘दिल्ली’ से केवल 750 किलोमीटर और अमृतसर से कुछ सौ किमी की दूरी पर स्थित हैं.

पाकिस्तान की सामने आई ये खतरनाक चाल! भारत को चुनौती देने के लिए कर रहा है ये प्लान
नरेंद्र मोदी

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, परमाणु हथियारों को सुरक्षित रखने के लिए ‘अमृतसर’ के पास ‘पाकिस्तान’ के ‘मियांवाली’ जिले में इन सुरंगों का बनाया जा रहा है. बनाई जा रही सुरंग ‘भारत’ की राजधानी ‘दिल्ली’ से केवल 750 किमी तथा आर्थिक राजधानी मुंबई से 1500 किमी की दूरी पर मौजूद है. पाकिस्तान टनल में संभावित हमले को ध्यान में रखते हुए परमाणु हथियारों को छिपा रहा है. भारत को चुनौती देने के लिए पाकिस्तान ने हथियार बना लिए हैं.

पाकिस्तान की सामने आई ये खतरनाक चाल! भारत को चुनौती देने के लिए कर रहा है ये प्लान
पाक परमाणु हथियार

सूत्रों की जानकारी के मुताबिक, ‘पाकिस्तान’ द्वारा बनाई जा रही इस सुरंगों की लंबाई और चौड़ाई लगभग 10 मीटर है. ये सुंरगें चौड़ी सड़कों से जुड़ी हुईं हैं और इनमें आने-जाने के अलग- अलग दरवाजे बनाये गये हैं. खुफिया सूचना के मुताबिक, हर एक टनल में 12 से 24 परमाणु हथियारों को छिपाकर रखा जायेगा. एक जानकारी में पाया गया है कि, पाकिस्‍तान 130-140 वॉरहेड के परमाणु शस्‍त्रागार की तेजी से अधिक संख्या बढ़ा रहा है।

पाकिस्तान की सामने आई ये खतरनाक चाल! भारत को चुनौती देने के लिए कर रहा है ये प्लान
परमाणु हथियार

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार पता चला है कि, ‘पाकिस्तान’ अपने शस्‍त्रागार को और मजबूत कर रहा है और ज्यादा से ज्यादा साईटों पर इनकी तैनाती बढ़ा रहा है. जिन बातों के बारे में पता लगाना अभी थोड़ा कठिन है.

Loading...