भारतीय सेना के लिए आई अच्छी खबर! दुश्मनों को तबाह करने के लिए 2020 तक मिलेगी मीडियम…

404

नई दिल्ली : बहुत सालों तक इंतजार करने के पश्चात् आखिर ‘भारतीय सेना’ को खुद का अडवांस्ड ‘मीडियम रेंज सरफेस एयर मिसाइल’ (एमआरएसएएम) सिस्टम वर्ष 2020 तक सेना के पास आ जायेगा.

भारतीय सेना के लिए आई अच्छी खबर! दुश्मनों को तबाह करने के लिए 2020 तक मिलेगी मीडियम...

“भारतीय सेना” को ‘एमआरएसएएम’ मिलने के पश्चात् यह हवा में 70 किलोमीटर दूरी तक बैलेस्टिक मिसाइल, फाइटर जैट और हमलावर हेलिकॉप्टर को टारगेट कर सकेगा.

सेना के लिए इसको ‘डिफेंस रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट ऑर्गनाइज़ेशन’ (डीआरडीओ ) और ‘इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज’ (आईएआई) एक साथ मिलकर तैयार करेंगे. सेना के चीफ ने इस बात की सूचना देते हुए कहा है कि, तैयार होने वाले इस सिस्टम के माध्यम से भारतीय सेना के लिए दुश्मनों को धूल चटाने में बहुत ही महत्वपूर्ण साबित होगा.

“भारतीय सेना” के अधिकारी ने इस सिस्टम पर नाम ना छापने की भी शर्त रखते हुए कहा है कि, एमआरएसएएम सिस्टम शत्रु के एयरक्राफ्ट, हेलिकॉप्टर, ड्रोन, सर्विलांस एयरक्राफ्ट और एयरबॉर्न वॉर्निंग कंट्रोल सिस्टम एयरक्राफ्ट आदि को हवा में ही   बर्बाद कर सकता है.

भारतीय सेना के लिए आई अच्छी खबर! दुश्मनों को तबाह करने के लिए 2020 तक मिलेगी मीडियम...

हालाँकि अभी भी यह सिस्टम ‘इंडियन एयर फोर्स’ और ‘इंडियन नेवी’ के पास मौजूद है. देश की सेना के लिए इस  महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट पर डीआरडीओ और एआईए से 17 हज़ार करोड़ रुपए की डील साइन हुई है.

सेना के अधिकारी ने जानकारी देते हुए कहा है कि, यस प्रोजेक्ट अगले तीन सालों में पूरा हो जायेगा. साथ ही यह भी बताया है कि, इस बनाने के लिए सेना सरकार को बार-बार बोल रही है. जिससे ‘भारत’ को होने वाले संभावित खतरों से सुरक्षित किया जा सके.

जैसा की हम आपको पहले ही जानकारी दे चुके हैं कि, भारतीय सेना को स्वयं का अडवांस्ड ‘मीडियम रेंज सरफेस एयर
मिसाइल’ (एमआरएसएएम) सिस्टम 2020 में जायेगा.

भारतीय सेना के लिए आई अच्छी खबर! दुश्मनों को तबाह करने के लिए 2020 तक मिलेगी मीडियम...

तैयार किये जा रहे इस सिस्टम के माध्यम से हवा में 70 किलोमीटर तक बैलेस्टिकमिसाइल, फाइटर जैट और हमलावर
हेलिकॉप्टर को टारगेट बनाया जा सकेगा.

इसको तैयार करने के लिए  ‘डिफेंस रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट ऑर्गनाइज़ेशन’ (डीआरडीओ ) और ‘इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज’ (आईएआई) मिलकर इसको बनायेंगे. सेना की अधिकारी ने जानकारी देते हुए कहा है कि, यह सिस्टम देश की सेना के लिए बहुत ही कारगर सिद्ध होगा.

भारतीय सेना के लिए आई अच्छी खबर! दुश्मनों को तबाह करने के लिए 2020 तक मिलेगी मीडियम...

सिस्टम पर नाम न छापने को लेकर भी शर्त रखी गयी है और बताया है कि, ‘एमआरएसएएम’ सिस्टम दुश्मन के एयरक्राफ्ट, हेलिकॉप्टर, ड्रोन, सर्विलांस एयरक्राफ्ट और एयरबॉर्न वॉर्निंग कंट्रोल सिस्टम एयरक्राफ्ट को हवा में बर्बाद कर सकता है.

यह सिस्टम ‘इंडियन एयर फोर्स’ और ‘इंडियन नेवी’ के पास है. इस प्रोजेक्ट के लिए डीआरडीओ और एआईए ने 17 हजार   करोड़ रुपए की डील की है.

भारतीय सेना के लिए आई अच्छी खबर! दुश्मनों को तबाह करने के लिए 2020 तक मिलेगी मीडियम... 

“भारतीय सेना’ के अधिकारी की जानकारी के मुताबिक, यह सिस्टम आने वाले तीन साल में बनकर तैयार हो जायेगा. इस सिस्टम को बनाने के लिए सेना सरकार को आगाह कर रही है. जिससे होने वाले दुश्मनों के वार से देश को सुरक्षित रखा जा सके.

loading...