मेडिकल साइंस ने माना भगवान श्री कृष्ण का लोहा, श्री कृष्ण ही थे सबसे बड़े…

459

नई देहली : “भगवान कृष्ण” को सबसे महान परामर्शदाता मानने वाले ‘इंडियन मेडिकल असोसिएशन’ (आईएमए) के अध्यक्ष ‘के. के. अग्रवाल’ ने बताया है कि, महाकाव्य महाभारत में ऐसे विभिन्न बिंदु हैं जिनसे मनोरोग संबंधी मुद्दों के उत्तर मिलते हैं.

मेडिकल साइंस ने माना भगवान श्री कृष्ण का लोहा, श्री कृष्ण ही थे सबसे बड़े...

अग्रवाल ने यह भी कहा है कि, भगवान श्री कृष्ण सही मायने में पहले और सबसे महान परामर्शदाता थे. जिन्होंने अपने मरीज ‘अर्जुन’ के साथ वालेसत्र में न केवल अर्जुन ही स्थिति में सुधर हुआ, बल्कि 700 श्लोकों वाले ‘भगवद गीता’ नाम के प्राचीन ग्रंथ की रचना भी की.

अग्रवाल ने ‘दि इक्वेटर लाइन’ मैगजीन में ‘कॉबवेब्स इनसाइड अस’ के ताजा अंको में लिखा है कि, ‘‘भारत में मनोचिकित्सा का इतिहास महाभारत की 18 दिनों तक चली लड़ाई से पहले भगवान श्री कृष्ण की तरफ से अर्जुन को सफल परामर्श दिए जाने से होता है.’’

“वेदों के समय में मनोचिकित्सा” शीर्षक से लिखे गए आलेख में अग्रवाल ने लिखा कि, जब कोई मानसिक-स्वास्थ्य पेशेवर या मनोवैज्ञानिक दवाएं नहीं थीं, लगता है उस युग में ‘संस्कृत’ महाकाव्य ने प्राचीन भारतीयों को कुछ उत्तरों की पेशकश की.

आगे पढ़े: अग्रवाल ने कहा है कि, दवाईयों का एक वर्गीकरण है जो व्यक्ति…!

loading...