वंदे मातरम् पर भारत माता का अपमान करने वाले देशद्रोहियों को दी ये कड़ी सजा

160

महाराष्ट्र : “औरंगाबाद” में ‘MIM’ के दो पार्षदों ने ‘वंदे मातरम्’ गाने के समय खड़े होने का विरोध जताया. जिसके कारण ‘औरंगाबाद नगर निगम’ में सत्तारूढ़ ‘भाजपा’ और ‘शिवेसना’ के नेताओं ने इसको लेकर उनका विरोध किया.

वंदे मातरम् पर भारत माता का अपमान करने वाले देशद्रोहियों को दी ये कड़ी सजा

नगर निगम में बैठक के समय ‘वंदे मातरम्’ गाया गया. परंतु इस पर ‘AIMIM’ के दो पार्षदों ने खड़े होने से साफ इंकार कर दिया. जिसकी वजह से ‘AIMIM’ के तीन पार्षदों को 15 दिन के लिए निलंबित कर दिया है.

ऐसा पहली बार नहीं जब इससे पहले भी पार्टी प्रमुख और ‘हैदराबाद’ से सांसद ‘असदुद्दीन औवेसी’ वंदे मातरम् को लेकर अपना विरोध दर्ज करा चुके हैं. उनका मुद्दा यह है कि, ‘संविधान’ में ऐसा कहीं भी नहीं लिखा है वंदे मातरम् गाना अनिवार्य है.

जानकारी के अनुसार आपको बता दें कि, अभी-अभी ‘बीएमसी’ ने एक प्रस्ताव पास करके ‘बीएमसी’ के सभी विद्यालयो में ‘वंदे मातरम्’ गाना आवश्यक कर दिया है. इस मामले में बीएमसी के मेयर ‘विश्वनाथ महादेश्वर’ ने जानकारी दी है कि, यहां हमने सप्ताह में दो बार वंदे मातरम् गाना अनिवार्य कर दिया है. प्रस्ताव ‘राज्य सरकार’ को भेज दिया गया है.

वंदे मातरम् पर भारत माता का अपमान करने वाले देशद्रोहियों को दी ये कड़ी सजा

हालांकि ‘शिवसेना’ और ‘भाजपा’ सूबे में वंदे मातरम् गाने के लिए अनिवार्य करने की भी मांग कर चुकी है. जिसको लेकर राज्य में सपा विधायक ‘अबू आजमी’ अपना कड़ा विरोध दर्ज करा चुके हैं.

आजमी ने यह भी कहा है कि, चाहे तो देश से बाहर कर दो परंतु ‘वंदे मातरम्’ नहीं गाऊंगा. क्योंकि सच्चा ‘मुसलमान’ कभी वंदे मातरम् नहीं गाता इसलिए मैं भी नहीं गाऊंगा.

वंदे मातरम् पर भारत माता का अपमान करने वाले देशद्रोहियों को दी ये कड़ी सजा

आजमी ने आगे कहा है कि, वो वंदे मातरम् का सम्मान करते हैं परंतु मजहब इसको गाने की इजाजत नहीं देता. दूसरी ओर MIM विधायक ‘वारिस पठान’ ने कहा है कि, कोई विचारधारा थोपी नहीं जा सकती. मैं ‘वंदे मातरम्’ नहीं गाऊंगा। चाहे कोई गले पर छुरी चला दे. विधानसभा में यह मामला उठाया गया तो मैं इसका विरोध करूंगा.

वंदे मातरम् पर भारत माता का अपमान करने वाले देशद्रोहियों को दी ये कड़ी सजा

जैसा की हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि, ‘महाराष्ट्र’ के ‘औरंगाबाद’ में दो नेताओं ने वंदे मातरम् गाने के लिए खड़े ना होने का विरोध किया. जिसके कारण ‘औरंगाबाद नगर निगम’ में सत्तारूढ़ भाजपा और शिवेसना के सदस्यों ने इसको लेकर जमकर हंगामा किया.

दरअसल बात यह है कि, एक मीटिंग के समय ‘वंदे मारतरम्’ गाया गया. परंतु इस दौरान ‘AIMIM’ के दो पार्षदों ने खड़े होने से साफ मना कर दिया. ‘एएनआई’ की जानकारी के मुताबिक, ‘AIMIM’ के तीन पार्षदों को 15 दिनों के लिए सस्पेंड कर दिया गया है.

ध्यान देने वाली बात यह है कि, इससे पहले भी कई बार पार्टी प्रमुख और ‘हैदराबाद’ से सांसद ‘असदुद्दीन औवेसी’ ने वंदे मातरम् की लेकर अपना विरोध दर्ज कराया है.

वंदे मातरम् पर भारत माता का अपमान करने वाले देशद्रोहियों को दी ये कड़ी सजा

उनका मामला यह है कि, संविधान में ऐसा कहीं भी नहीं लिखा है वंदे मातरम् गाना अनिवार्य है. सूत्रों के मुताबिक बता दें कि, हाल के दिनों में ‘बीएमसी’ ने एक प्रस्ताव पास कर बीएमसी के सभी स्कूलों में वंदे मारतम् गाना अनिवार्य कर दिया है.

इस मुद्दे पर बीएमसी के मेयर ‘विश्वनाथ महादेश्वर’ ने कहा था कि, यहां हमने सप्ताह में दो बार ‘वंदे मातरम्’ गाना अनिवार्य कर दिया है. प्रस्ताव ‘राज्य सरकार’ को भेजा जा चुका है.

हालांकि ‘शिवसेना’ और ‘भाजपा’ दोनों वंदे मातरम् गाने की मांग कर चुकी है. जिसको लेकर राज्य में सपा विधायक ‘अबू आजमी’ अपना कड़ा विरोध दर्ज करा चुके हैं. उन्होंने कहा है कि, चाहे तो देश से बाहर निकाल दो लेकिन वंदे मातरम् नहीं गाऊंगा. क्योंकि सच्चा मुसलमान कभी वंदे मातरम् नहीं गाएगा.

वंदे मातरम् पर भारत माता का अपमान करने वाले देशद्रोहियों को दी ये कड़ी सजा

आजमी ने यह भी कहा है कि जो ‘मुस्लमान’ वंदे मातरम् का सम्मान करते हैं लेकिन मजहब इसे गाने की इजाजत नहीं देता. दूसरी तरफ MIM विधायक ‘वारिस पठान’ ने समर्थन करते हुए कहा है कि, कोई विचारधारा थोपी नहीं जा सकती. मैं वंदे मातरम् को कभी भी नहीं गाऊंगा. चाहे कोई मेरी जान ही क्यों ना ले ले. अगर ‘विधानसभा’ में यह मुद्दा उठा तो इसका विरोध भी करूंगा.

loading...