इंडोनेशिया जल्द होगा दुनिया का एकलौता ‘हिन्दू राष्ट्र’!

1419

दिल्ली: इस्लाम धर्म को मानने वाले ज्यादातर लोग बहुत ही कट्टर होते हैं और अपने मजहब को बड़ाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं. आपको बता दे की इंडोनेशिया में जावा सबसे बड़ा प्रदेश है, इंडोनेशिया के अधिकतर नागरिक जावा के ही रहने वाले है, इंडोनेशिया कई द्वीप समूहों से मिलकर बना है.

इंडोनेशिया जल्द होगा दुनिया एकलौता 'हिन्दू राष्ट्र'
जावा की राजकुमारी ‘कंजेंग राडेन’ Image Source

वैसे तो इंडोनेशिया में राष्ट्रपति इत्यादि होते है, पर ब्रिटैन की तरह ही यहाँ भी ‘राजपरिवार‘ है. यहाँ राजपरिवार राजनीति में भी अहम भूमिका निभा रहे होते हैं. लेकिन अभी ऐसी खबर आ रही है कि इंडोनेशिया की राजकुमारी ने इस्लाम धर्म छोड़ दिया है और ‘सनातन धर्म’ अपना लिया है|

जावा की राजकुमारी ‘कंजेंग राडेन‘ ने सनातन विधि विधानों को अपनाकर इस्लाम को त्याग दिया है और दीक्षा लेकर हिन्दू बन गयी हैं. कंजेंग राडेन ने अपनी शुद्धि सनातन धर्म के विधि विधानों से ही करवाई, और इसके बाद सनातन धर्म की दीक्षा ली और अब वो हिन्दू बन गयी हैं.

कंजेंग राडेन का कहना है की, इंडोनेशिया का मूल धर्म सनातन धर्म ही है, और उन्होंने धर्मांतरण नहीं किया है, बल्कि वो अपने ही मूल धर्म में वापस आयी है. भारत में इसी प्रक्रिया को घर वापसी भी कहते है, ऐसे में हम कह सकते है की जावा की राजकुमारी कंजेंग राडेन ने घर वापसी ही करी है.

इंडोनेशिया जल्द होगा दुनिया एकलौता 'हिन्दू राष्ट्र'
जावा की राजकुमारी ‘कंजेंग राडेन’ Image Source

कंजेंग का मानना है कि पुरे विश्व में सनातन ही सबका मूल है और उसमें से विकृत होकर ही सभी धर्म निकले हैं, चाहे फिर वह कोई भी धर्म या मजहब हो वो कहीं न कहीं सनातन का ही हिस्सा है और सनातन से ही लिया गया होता है|

इससे पहले इंडोनेशिया के सुप्रीम कोर्ट की जज ने सनातन धर्म स्वीकार किया है. गौरतलब है कि इंडोनेशिया पूरी तरह से इस्लामिक राष्ट्र है और यहाँ मुस्लिम बाहुल्य हैं.

सूत्रों के अनुसार आपको बता दें की इससे पहले इंडोनेशिया इस्लामिक देश नहीं बल्कि एक हिन्दू देश ही था, और इसी कारण आज भी इंडोनेशिया में हिन्दू धर्म के प्रतिक हर जगह है. इंडोनेशिया के लोगों का भी ये मानना है की उनका धर्मांतरण किया गया था. उनका कहना है की उनके पूर्वज हिन्दू ही थे पर उन्हें मुस्लिम बनाया गया था|

इसी के मद्देनजर इंडोनेशिया के शहरों में आज भी आमतौर पर हिन्दू प्रतीक चिन्ह देखे जा सकते हैं और हिन्दू धर्म के प्रति ये लोग सम्मान भी रखते हैं, क्योंकि ये लोग खुद ये बात मानते हैं कि इंडोनेशिया पहले ‘हिन्दू राष्ट्र’ ही था|

 

loading...