ललित कला अकादमी : दिव्यांग कलाकारों की चित्र प्रदर्शनी बनी कला प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र

156

ललित कला अकादमी : कला सिर्फ समर्पण मांगती है. जो लगन के साथ इसमें रमा, ये उसी की हो गई. देश में कई ऐसे दिव्यांग हैं, जो हुनर के रंगों से एक हसीन इतिहास रचने को तैयार हैं. संघर्षो के इन कलाकारों के सपने इनकी प्रेरणा और हुनर इनका संसाधन है.

ललित कला अकादमी : दिव्यांग कलाकारों की चित्र प्रदर्शनी बनी कला प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र

दिल्ली में स्थित ललित कला अकादमी ने नोएडा एसोसिएशन ऑफ द डेफ के सहयोग से एक चित्र प्रदर्शनी आयोजित की. प्रदर्शनी का उद्घाटन 3 दिसंबर को संस्कृति मंत्रालय की ज्वाइंट सेक्रेटरी श्रीमती निरुपमा कोटरू ने किया.

ललित कला अकादमी : दिव्यांग कलाकारों की चित्र प्रदर्शनी बनी कला प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र
चित्रकार

रंगों से करते हैं बातें…
रंग-बिरंगे चित्र बनाने वाले ये चारों कलाकार सुन नहीं पाते हैं, लेकिन रंगों की बोली को बहुत अच्छी तरह से समझते हैं. इस प्रदर्शनी में दिव्यांग कलाकार संजय सराफ, राजेश महेश्वरी, पूजन सलूजा और पवन कुमार सिंह की कलाकृतियाँ शामिल हैं.

ललित कला अकादमी : दिव्यांग कलाकारों की चित्र प्रदर्शनी बनी कला प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र

चित्रकार संजय सराफ ने कश्मीर विश्वविद्यालय से ललित कला में 5 साल की डिग्री हासिल की है और स्वयं को व्यक्त करने के लिए आयल कलर का उपयोग करते हैं. इनके हुनर को देखते हुए इन्हें 2005 में राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रिय पुरस्कार से नवाजा गया.

ललित कला अकादमी : दिव्यांग कलाकारों की चित्र प्रदर्शनी बनी कला प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र

दिल्ली के रहने वाले राजेश महेश्वरी ने एक्रेलिक ऑइल, निब, इंक के इस्तेमाल से शिवलिंग, गणेश जी आदि के चित्रों को बहुत बारीकी से कैनवास पर उतारा है.

ललित कला अकादमी : दिव्यांग कलाकारों की चित्र प्रदर्शनी बनी कला प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र

नोएडा के पूजन सलुजा ने वाटर कलर पोस्टर और हार्ड पेपर की सहायता से बेहद सुन्दर कलाकृतियों को कला प्रेमियों के बीच पेश किया है. इनके चित्रों में पहाड़, झरने, गणेश जी आदि शामिल हैं.

ललित कला अकादमी : दिव्यांग कलाकारों की चित्र प्रदर्शनी बनी कला प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र

गाजियाबाद के निवासी पवन कुमार सिंह ने ऑइल पेंट का इस्तेमाल कर अपनी कला का अद्भुत नमूना पेश किया है. इस प्रदर्शनी में इनकी कुल 17 कलाकृतियाँ शामिल हैं.

इन चारों दिव्यांग कलाकारों की ग्रुप प्रदर्शनी ललित कला अकादमी की गैलरी नंबर 3 और 4 में लगी है जो कि 9 दिसंबर, 2018 तक देखी जा सकती है.

–सागर कुमार 

loading...