अदालत ने आतंकवादी संगठन इंडियन मुजाहिद्दीन के यासीन भटकल पर लिया ये बड़ा फैसला

84

अगस्त 30, 2017 : इंडियन मुजाहिदीन” का आतंकी ‘यासीन भटकल’ को लेकर ‘दिल्ली’ में स्थित ‘पटियाला हाउस न्यायालय’ ने दो मामले में ये बड़ा फैसला सुनाकर निश्चित किया है कि, ये आतंकी हमले कराये हैं. यह आरोप 2010 में ‘जामा मस्जिद’ में हुए आतंकी हमले भटकल ने ही तय किये हैं.

अदालत ने आतंकवादी संगठन इंडियन मुजाहिद्दीन के यासीन भटकल पर लिया ये बड़ा फैसला

“पटियाला हाउस न्यायालय” ने 23 अक्टूबर को मुद्दे को लेकर अगली सुनवाई करने का फैसला किया है. 23 अक्टूबर से ही इस मामले मे गवाहों की गवाही का कार्य भी न्यायालय मे शुरू किया जाएगा.

सबूत के कमी की वजह से तीन व्यक्ति रिहा

19 सितंबर, 2010 को पुरानी दिल्ली में स्थित ‘जामा मस्जिद’ के सामने दो बाइक पर सवार आतंकियों ने ना सिर्फ पर्यटकों पर गोलीबारी की थीं, बल्कि एक कार को भी उडा दिया था. इस मामले में ‘पटियाला हाउस न्यायालय’ ने तीन लोगों को रिहा भी कर दिया है क्योंकि पुलिस उन लोगों के खिलाफ कोई पक्के सबूत मौजूद नहीं थे.

अदालत ने आतंकवादी संगठन इंडियन मुजाहिद्दीन के यासीन भटकल पर लिया ये बड़ा फैसला

दरअसल, पुलिस ने तीनों लोगों के नाम अपनी आरोप पत्र में दिए थे. न्यायालय ने आज जिन तीन लोगों को रिहा किया है, उनके नाम सैयद इस्लामी, अब्दुश साबूर और रियाज़ अहमद सईदी है.

एनआइए की न्यायालय भटकल को  दे चुकी है फांसी की सजा

आतंकी ‘यासीन भटकल’ पर इस केस के अलावा चार और भी मामले न्यायालय में लगातार जारी है, जिसमे 2008 में दिल्ली में हुए सिलसिलेवार बमविस्फोट का मामला भी दर्ज है.

अदालत ने आतंकवादी संगठन इंडियन मुजाहिद्दीन के यासीन भटकल पर लिया ये बड़ा फैसला

“यासीन भटकल” को एनआईए की न्यायालय ने बीते साल पहले ही सजा सुनाई है. यह सजा यासीन को वर्ष 2013 में ‘हैदराबाद’ में हुए बम विस्फोट के मामले को लेकर सजा दी गई थी. इस धमाके में 18 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी.

Loading...