कासगंज में बेरहमी से मारे गए हिंदू की हत्या के बाद गिरिराज का फूटा गुस्सा! बिलबिला उठे सेकुलर

322

28 जनवरी, 2018 –  उत्तर प्रदेश के कासगंज में हुई दिल दहला देने वाली घटना के बाद भाजपा नेता गिरीराज सिंह का ऐसा बयान आया है जिसके बाद सेकुलर कांप उठे हैं.

कासगंज में बेरहमी से मारे गए हिंदू की हत्या के बाद गिरिराज का फूटा गुस्सा! बिलबिला उठे सेकुलर

दरअसल यह मामला गणतंत्र दिवस का है. जब पूरा देश इस दिवस को मना रहा था तो उस समय चन्दन गुप्ता अपने मित्रों के साथ तिरंगा यात्रा में शामिल होने के लिए हाथ में तिरंगा लिए घर से निकला था. एक देशभक्त की तरह सभी गणतंत्र दिवस को मनाने के लिए निकल पड़े थे.

चंदन गुप्ता और उसके सभी दोस्त दिल में देशभक्ति की भावना लिए पूरे जोर-शोर से ‘भारत माता की जय’ का उद्घोष कर रहे थे. जब वे मुस्लिम इलाके के पास से गुजर रहे थे तो जिहादियों की भीड़ ने अचानक आकर पाकिस्तान की जय-जयकार करते हुए तिरंगा यात्रा पर हमला कर दिया. सभी के पास पहले से ही हथियार मौजूद थे. उन्होंने गोलीबारी की और चन्दन गुप्ता को मौत की नींद सुला दिया.  

चन्दन गुप्ता अपने घर से खुशी-ख़ुशी हाथ में तिरंगा लिए निकला था लेकिन घर वापस आया उसका शव और वो भी तिरंगे में लिपटा हुआ. जिहादियों ने उसको बेरहमी से मार डाला. हाल ही में जो लोग हरियाणा में बस पर हुई पत्थरबाजी के बाद उस घटना को ‘हिन्दू आतंकवाद’ का नाम दे रहे थे, वो लोग पाकिस्तान की जय-जयकार करने वालों का मजहब अभी तक नही बता पाए, बुद्धिजीवियों के मुंह पर जिप लग गयी है, सेकुलर नेता, सारी सेकुलर मीडिया और उनके पत्रकारों के मुंह पर ताला लग गया है. कोई एक शब्द बोलने को तैयार नहीं है.

आप देखते होंगे कश्मीरी पत्थरबाज जिहादियों के बचाव में भारत के सेकुलर नेता, बुद्धिजीवी, वामपंथी आदि तुरंत ही आ जाते हैं और देश को बदनाम करते हैं, लेकिन जो लोग देश में पाक का झंडा फहराते हैं, उनको भटका हुआ युवक करार दिया जाता है. हिन्दू आतंकवाद कहना इनको आता है लेकिन आतंकियों का मजहब बताने में इनके मुंह में दही जम जाता है. जिहादियों की बात आती है तो देशद्रोही उनका समर्थन करने लग जाते हैं. 

कासगंज में बेरहमी से मारे गए हिंदू की हत्या के बाद गिरिराज का फूटा गुस्सा! बिलबिला उठे सेकुलर

देश में ऐसे हालात हो गए हैं कि यहाँ भारत माता की जय बोल दिया तो उसका कत्लेआम कर दिया जाता है. चन्दन गुप्ता को जिहादियों ने देशभक्त होने की सजा दे डाली. वो भारत का ही झंडा फहरा रहा था लेकिन उसको इसी बहुत बड़ी सजा मिली. इस घटना पर एक भी बुद्धिजीवी बोलने को तैयार नहीं और न ही कभी बोल पायेगा. पाकिस्तान जिंदाबाद कहने वालों की निंदा भी कोई नहीं करेगा, न ही सेकुलरों को इनके धर्म का पता चलेगा. 

चन्दन गुप्ता एक हिन्दू है, इसीलिए हमारे देश के सेकुलर एक शब्द बोलने को तैयार नहीं है. इस देश में सेकुलरों, बुद्धिजीवियों, वामपंथियों की आवाज बुरहान वानी, याकूब, अफजल गुरु जैसे इस्लामिक दरिंदों के लिए ही निकलती है.

Loading...