नोटबंदी से मोदी ने भारतीयों के रगों से खून निकाल लिया : राहुल गांधी 

178

जौनपुर (उत्तर प्रदेश), 19 दिसम्बर – कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि नोटबंदी का फैसला कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 99 फीसदी भारतीयों के रगों से खून खींच लिया। उत्तर प्रदेश में यहां एक रैली में राहुल ने लोगों को मोदी के खिलाफ ‘मुर्दाबाद’ के नारे लगाने से रोकते हुए कहा कि वह प्रधानमंत्री हैं और हमें किसी के लिए भी ‘मुर्दाबाद’ शब्द का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

राहुल गांधी  : कांग्रेस उपाध्यक्ष
राहुल गांधी : कांग्रेस उपाध्यक्ष

उन्होंने कहा कि देश से भ्रष्टाचार व काला धन को खत्म करने के लिए कांग्रेस सरकार के किसी भी कदम का समर्थन करेगा, लेकिन नोटबंदी न तो भ्रष्टाचार और न ही काले धन के खिलाफ है।

राहुल ने कहा, “द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, लोगों पर बम गिराने का एक नया तरीका निकाला गया था। 200 विमानों से एक शहर पर फायर बम गिराये गए थे। मोदी ने देश के गरीबों पर फायर बम बरसाया है।”

उन्होंने कहा, “हम भ्रष्टाचार को भारत से उखाड़ फेंकना चाहते हैं। यदि सरकार भ्रष्टाचार के खिलाफ कोई फैसला लेगी, तो हम उसका 100 फीसदी समर्थन करेंगे।”

कांग्रेस नेता ने कहा कि आठ नवंबर को देश में मौजूद 86 फीसदी नकदी को अमान्य करने का फैसला भारत के गरीब लोगों के खिलाफ है।

उन्होंने कहा, “यह भारत के 99 फीसदी लोगों, किसानों व मजदूरों के खिलाफ है। उनसे मंजूरी लिए बिना मोदी ने उनके रगों से खून निकाल लिया।”

राहुल गांधी ने जैसे ही भाषण की शुरुआत की, भीड़ में मौजूद कुछ लोग मोदी के खिलाफ नारे लगाने लगे।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने उनसे कहा, “हमारा मोदी तथा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से विचारों को लेकर मतभेद है। ‘मुर्दाबाद’ जैसे शब्द का इस्तेमाल मत कीजिए..। नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री हैं। उनसे राजनीतिक लड़ाई है।”

उन्होंने कहा, “इस शब्द का इस्तेमाल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के लोग करते हैं, हम नहीं।”

राहुल ने कहा, “मोदी जी, आपने मुरादाबाद के पीतल उद्योग, कानपुर के चमड़ा उद्योग और मिर्जापुर के दरी उद्योग को नष्ट कर दिया।”

मोदी पर हमला करते हुए राहुल ने कहा, “किसान बीज खरीदने के लिए पेटीएम, चेक या क्रेडिट कार्ड नहीं, बल्कि नकदी का इस्तेमाल करते हैं। आपने तो उनका जीवन तबाह कर दिया।”

कांग्रेस नेता ने यह भी कहा कि मोदी ने शराब कारोबारी विजय माल्या (ऋण माफी का संदर्भ देते हुए) को 1,200 करोड़ रुपये की टॉफी दी है।

हमारा कहना है कि गरीबों पर बमबारी अमीरों के आठ लाख करोड़ रुपये के कर्ज को माफ करने के लिए की गई।

उन्होंने कहा, “हमारे देश के लगभग 50 परिवार आठ लाख करोड़ का ऋण लेते हैं। मोदीजी आपके पैसों का इस्तेमाल कम से कम 50 परिवारों का कर्ज माफ करने के लिए करेंगे। इन परिवारों के सदस्य मोदीजी के साथ अमेरिका व चीन की यात्रा करते हैं।”

राहल ने कहा, “लोगों का कहना है कि नोटबंदी एक अच्छा विचार है, लेकिन इसके पहले कोई तैयारी नहीं की गई। लेकिन मुझे लगता है कि बेहतरीन तैयारी की गई थी। उनका इरादा 99 फीसदी भारतीयों के पैसों का इस्तेमाल अमीरों का कर्ज माफ करने का था।”

उन्होंने कहा, “मोदीजी ने कहा था कि नोटबंदी आतंकवाद को रोकने के लिए है। लेकिन दो दिन बाद ही एक मुठभेड़ में मारे गए एक आतंकवादी के पास से 2,000 रुपये का नोट मिलता है।”

आईएएनएस

loading...