मोदी राज में भारत को मिली एक और सफलता, कच्चे तेल के बाद अमेरिका भारत को देगा ये महत्वपूर्ण..

3163

 

नई दिल्ली – भारत ने आज यानि मंगलवार को अमेरिका से कच्चे तेल के बाद प्राकृतिक गैस का आयात भी शुरू कर दिया है. पहले भारत द्वारा कच्चे तेल का ही आयात किया जाता था लेकिन अब प्राकृतिक गैस का आयात भी किया जायेगा.

मोदी राज में भारत को मिली एक और सफलता, कच्चे तेल के बाद अमेरिका भारत को देगा ये महत्वपूर्ण..
नरेंद्र मोदी, ट्रम्प image source

हम आपको बता दें कि 20 वर्षीय समझौते के अंतर्गत लिक्विफाइड नैचरल गैस (एलएनजी) की पहली खेप को लुईजिआना से हरी झंडी दिखाकर रवाना कर दिया गया है. सरकारी गैस कंपनी गेल इंडिया द्वारा एक साल में 35 लाख टन एलएनजी के लिए लुईजिआना स्थित सेनियर एनर्जी की सबाइन पास लिक्विफैक्शन यूनिट से करार किया गया है.

मोदी राज में भारत को मिली एक और सफलता, कच्चे तेल के बाद अमेरिका भारत को देगा ये महत्वपूर्ण..
गेल इंडिया image source

बता दें कि गेल ने अपने एक बयान में बताया है कि कार्गो (माल) को गेल के पहले चार्टर्ड एलएनजी शिप ‘मेरिडियन स्पिरिट’ पर लाद दिया गया है और रवाना कर दिया गया है. यह एलएनजी सबाइन पास एलएनजी प्रॉजेक्ट में सेनियर एनर्जी की एलएनजी एक्सपोर्ट फसिलिटी से चल पड़ी है. हम आपको बता दें कि इस कार्गो को 28 मार्च के आसपास महाराष्ट्र स्थित दाभोल टर्मिनल में खाली किया जाएगा.

गौरतलब है कि पिछले साल के अक्टूबर माह में भारत द्वारा अमेरिका से कच्चे तेल की पहली खेप आयात की थी. बता दें कि अमेरिका ने 1975 में तेल निर्यात पर रोक लगा दी थी. इस रोक को 2015 में पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा हटाया गया था. दिसंबर 2011 में गेल ने अमेरिका के एलएनजी निर्यातक सेनियर एनर्जी के साथ खरीद एवं बिक्री समझौते (एसपीए) पर हस्ताक्षर किया था. एसपीए 1 मार्च से प्रभावी हुआ है.

मोदी राज में भारत को मिली एक और सफलता, कच्चे तेल के बाद अमेरिका भारत को देगा ये महत्वपूर्ण..
एलएनजी की खेप image source

हम आपको बता दें कि इस समझौते की शर्तों के अंतर्गत सेनियर गेल को एक साल मे 35 लाख टन एलएनजी की बिक्री और उपलब्धता सुनिश्चित करेगा. गेल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक बी. सी. त्रिपाठी और सेनियर के सीईओ जैक फ्यूस्को की मौजूदगी में सबाइन पास में एक समारोह के बाद जहाज को पहली खेप के साथ रवाना किया गया है. इस खेप को 28 मार्च के आसपास महाराष्ट्र स्थित दाभोल टर्मिनल में खाली किया जाएगा.

 

Loading...