मोदी राज में रातो रात हुई सबसे बड़ी कार्रवाई, मेहुल चैकसी और नीरव मोदी का बुरा हाल.. विरोधी हुए सन्न

561

प्रवर्तन निदेशालय द्वारा मेहुल चौकसी और उनकी कंपनियों की 1217 करोड़ रुपये मूल्य की  प्रॉपर्टी को जब्त कर लिया है. बता दें कि इसमें उनकी 41 प्रॉपर्टी शामिल है.

मोदी राज में रातो रात हुई सबसे बड़ी कार्रवाई, मेहुल चैकसी और नीरव मोदी का बुरा हाल.. विरोधी हुए सन्न
प्रवर्तन निदेशालय image source

इनमें मुंबई के 15 फ्लैट और और 17 ऑफिस शामिल है. मेहुल चौकसी की जब्त हुई संपत्तियों में कोलकता का एक शॉपिंग मॉल भी शामिल है और इसमें अलिबाग का एक फार्म हाउस, महाराष्ट्र और तमिल नाडू में 231 एकड़ की जमीन, हैदराबाद जेम्स एसईजेड और आंध्र प्रदेश की संपत्ति भी शामिल है.

सीबीआई ने नीरव मोदी के खिलाफ ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी किया

हम आपको बता दें कि सीबीआई(CBI) ने नीरव मोदी को अगले हफ्ते जांच के लिए बुलाया था. लेकिन नीरव मोदी ने सीबीआई के सामने आने से इंकार कर दिया है.

मोदी राज में रातो रात हुई सबसे बड़ी कार्रवाई, मेहुल चैकसी और नीरव मोदी का बुरा हाल.. विरोधी हुए सन्न
सीबीआई image source

इसके बाद नीरव मोदी और गीतांजलि ज्वैलर्स के मेहुल चौकसी के खिलाफ ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी कर दिया गया है. सीबीआई ने अपने लेटर में कहा था कि वह जिस जगह भी है वहां के दूतावास से जल्द से जल्द संपर्क करें जिससे उन्हें जांच के लिए भारत लाने की व्यवस्था की जा सके. सीबीआई ने साफ़ कह दिया है कि जिसे बुलाया जाए उसका आना जरूरी होता है.

पीएनबी के इंटरनल चीफ ऑडिटर को किया गिरफ्तार

बता दें कि पीएनबी बैंकिंग घोटाले में सीबीआई ने पीएनबी के इंटरनल चीफ ऑडिटर एम के शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है. मुंबई के ब्रैडी हाउस शाखा के इंटरनल चीफ ऑडिटर एम के शर्मा पर नीरव मोदी समूह और गीतांजलि समूह के हिसाब-किताब की जांच को लीक करने का आरोप है.

मोदी राज में रातो रात हुई सबसे बड़ी कार्रवाई, मेहुल चैकसी और नीरव मोदी का बुरा हाल.. विरोधी हुए सन्न
पंजाब नैशनल बैंक

इसके साथ ही नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी कर दिया गया है. वहीं, ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन की तरफ से लुक आउट नोटिस जारी कर दिया गया है. बता दें कि नोटिस जारी करने के साथ ही नीरव मोदी की चार और संपत्तियों को भी जब्त कर लिया गया है.

इस घोटाले में बैंक का करीब 12 हजार करोड़ रुपये गलत तरीके से लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (LoU) जारी कर हासिल किये गये हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस जांच में यह किसी ऑडिटर की पहली गिरफ्तारी है. इन ऑडिटर के पास घोटाले में शामिल बैंक शाखा की ऑडिट की जिम्मेदारी थी. यह ऑडिटर ऑडिट में गड़बड़ी पकडे जाने पर उसकी रिपोर्ट जोनल कार्यालय में करते है.

 

Loading...