फारूक अब्दुल्ला ने फिर दिखाई अपनी औकात! पीओके को लेकर भारत पर दिया ये विवादित बयान…

148

नई दिल्‍ली : 11 नवंबर को नेशनल कांफ्रेंस के ‘फारुख अब्‍दुल्‍ला’ ने सरकार के माध्यम से चुने गये वार्ताकार ‘दिनेश्‍वर शर्मा’ को लेकर कुछ भी बोलने से साफ मना कर दिया है. साथ ही फारूक ने बताया है कि, कश्‍मीर का विवाद ‘भारत-पाकिस्तान’ के बीच है, इसलिए इस मुद्दे को लेकर पाक सरकार बातचीत करनी पड़ेगी.

फारूक अब्दुल्ला ने फिर दिखाई अपनी औकात! पीओके को लेकर भारत पर दिया ये विवादित बयान...
फारूक अब्दुल्ला

फारूक अब्दुल्ला ने बताया है कि, पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) पाकिस्तान का हिस्सा है और उनका ही रहेगा. ‘जम्मू-कश्मीर’ को लेकर बातचीत करने के लिए ‘भारत’ सरकार के प्रतिनिधि ‘दिनेश्वर शर्मा’ से मुलाकात करने के पश्चात्  फारूक ने मीडिया से बातचीत के दौरान यह बात कही है. ‘जम्मू-कश्‍मीर’ के वार्ताकार ‘दिनेश्‍वर शर्मा’ कोलेकर फारूख ने बताया है कि, मैं उनको लेकर ओर  ज्यादा नहीं बोलूँगा.फारूक ने बताया है कि, उन्होंने बात की परंतु एकमात्र हल बातचीत नहीं है. कश्मीर मामला भारत-पाक के बीच है.

फारूक अब्दुल्ला ने फिर दिखाई अपनी औकात! पीओके को लेकर भारत पर दिया ये विवादित बयान...
दिनेश्वर शर्मा

“भारत सरकार” को ‘पाकिस्‍तान सरकार’ से भी बातचीत करनी पड़ेगी क्‍योंकि कश्‍मीर का एक हिस्‍सा (पीओके) उनके पास है. जो हिस्सा पाकिस्तान के पास है वो उनका ही है और यह ‘भारत’ का हिस्सा है. यदि वो कश्मीर में शांति बहाल करने चाहते हैं तो इसके लिए सरकार को ‘पाकिस्तान’ के साथ बातचीत करनी चाहिए और हमारे साथ-साथ उनको भी स्वायत्ता देनी चाहिए.

फारूक अब्दुल्ला ने फिर दिखाई अपनी औकात! पीओके को लेकर भारत पर दिया ये विवादित बयान...
पीओके

“फारूक अब्दुल्ला” ने बताया है कि, पाकिस्‍तानी मंत्री ने एक बात बिल्‍कुल ठीक कही कि, आप भूल गए हो कि, जो हिस्‍सा आपका है वह एक हथियार के दम पर अधिकृत कर लिया गया है. आप अधिकृत करने वाले हथियार को भूल गए और कहते हो कि वह हिस्‍सा (पीओके) आपका है. अगर आप यह बात करते हो कि, यह हिस्सा आपका है तो हथियार को भी याद रखो.

फारूक अब्दुल्ला ने फिर दिखाई अपनी औकात! पीओके को लेकर भारत पर दिया ये विवादित बयान...
पाक हथियार

“फारूख अब्दुल्ला” ने बताया है कि, आजादी की मांग करना सरासर बेईमानी वाली बात है. कश्मीर हर तरह से जमीन और परमाणु हथियार संपन्न राष्ट्रों से घिरा हुआ है. इसलिए इसकी आजादी की मांग ठीक नहीं होगा. फारूक ने बताया है कि, अगर भारत सरकार कश्मीर में शांति चाहती है तो पाकिस्तान के साथ भी बातचीत करनी पड़ेगी. जबकि भारत सरकार ऐसा मानता है कि, पाक अधिकृत कश्मीर ‘भारत’ का अभिन्न अंग है.

loading...