साध्वी प्रज्ञा को लेकर जावेद अख्तर द्वारा दिए गये विवादित बयान के बाद लिया गया ये ताबड़तोड़ एक्शन…

477

After the disputed statement given by Javed Akhtar about Sadhvi Pragya this suppression action was taken (नई दिल्ली) : अभी-अभी गीतकार ‘जावेद अख्तर’ को लेकर बड़ी खबर आई है. जिसके बाद जावेद अख्तर की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं. सूत्रों की माने तो ‘साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर’ पर अपनी एक विवादित बयान को लेकर जावेद अख्तर के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मुकदमा दायर किया गया है.

साध्वी प्रज्ञा को लेकर जावेद अख्तर द्वारा दिए गये विवादित बयान के बाद लिया गया ये ताबड़तोड़ एक्शन...
जावेद अख्तर

ध्यान देने वाली बात यह है कि जावेद अख्तर ने अपने बयान में ‘साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर’ की तुलना ‘रावण’ से की थी. जिसको लेकर काफी बवाल भी मचा था.

यह भी पढ़े : साध्वी प्रज्ञा का बचाव करते हुए अमित शाह ने सोनिया गांधी की खोली पोल!

उन्होंने कहा था कि ‘उसके भेष पर मत जाओ. यह केवल इसलिए है कि एक व्यक्ति संत की तरह दिखता है इसका मतलब यह नहीं है कि वह व्यक्ति संत है. यह मत भूलिए कि जब रावण सीता का अपहरण करने के लिए आया था, तो वह भी एक संत की तरह कपड़े पहने था.’

साध्वी प्रज्ञा को लेकर जावेद अख्तर द्वारा दिए गये विवादित बयान के बाद लिया गया ये ताबड़तोड़ एक्शन...
साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर

उनके इस विवादित बयान को लेकर भोपाल की ‘जेएमएफसी कोर्ट’ में उनके खिलाफ एक अपराधिक मानहानि का मुकदमा दर्ज किया गया है. यह मामला एडवोकेट ‘राजेश कुंसारिया’, एडवोकेट ‘संतोष शर्मा’ और ‘श्रेयराज सक्सेना’ द्वारा धारा 500 के तहत लगाया गया है. मामले की सुनवाई 24 मई, 2019 को होगी। 

जावेद अख्तर ने कहा था कि अगर साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के शाप से एक देशभक्त अफसर शहीद हो सकता है तो मैं प्रधानमंत्री ‘नरेंद्र मोदी’ जी को सलाह दूंगा कि इनके (प्रज्ञा) शाप को ‘हाफिज सईद’ और दूसरे आतंकियों पर इस्तेमाल करें, ताकि वे (आतंकवादी) एक साथ खत्म हो जाएं.

साध्वी प्रज्ञा को लेकर जावेद अख्तर द्वारा दिए गये विवादित बयान के बाद लिया गया ये ताबड़तोड़ एक्शन...

सूत्रों की माने तो महाराष्ट्र एटीएस चीफ ‘हेमंत करकरे’ के बारे में भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा के बयान को लेकर सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि ‘जब प्रज्ञा के शाप से एक देशभक्त अफसर शहीद हो सकता है तो ऐसे शाप को राष्ट्रीय स्तर पर इस्तेमाल करना चाहिए.’

loading...