रेलवे घोटाले को लेकर सीबीआई ने राबड़ी और तेजस्वी से की पूछताछ! सामने आई ये चौंका देने वाली सच्चाई

217

पटना : जानकारी के अनुसार आपको याद दिला दें कि यह मामला उस समय का है जब ‘लालू प्रसाद यादव’ रेल मंत्री थे. ‘सीबीआई’ टीम रेलवे होटल टेंडर मामले को लेकर पटना स्थित राबड़ी आवास गई और वहां पहुंचकर टीम ने 4 घंटे तक ‘राबड़ी देवी’ और उनके छोटे बेटे ‘तेजस्वी यादव’ से इस मामले में पूछताछ की.

रेलवे घोटाले को लेकर सीबीआई ने राबड़ी और तेजस्वी से की पूछताछ! सामने आई ये चौंका देने वाली सच्चाई
सीबीआई

सूत्रों ने आगे की जानकारी देते हुए कहा है कि मंगलवार (10 अप्रैल) को सीबीआइ की सात सदस्यीय टीम अचानक राबड़ी आवास पहुंची. 

प्राप्त जानकारी के अनुसार सीबीआइ टीम ने तेजस्वी यादव का बयान दर्ज करने के लिए राबड़ी आवास पर पहुंची थी, क्योंकि तेजस्वी और ‘राबड़ी देवी’  रेल घोटाले में नामजद हैं. 

रेलवे घोटाले को लेकर सीबीआई ने राबड़ी और तेजस्वी से की पूछताछ! सामने आई ये चौंका देने वाली सच्चाई
राबड़ी देवी

जानकारी के अनुसार खबर मिली है कि रेलवे टेंडर घोटाले को लेकर अभियुक्त बनाए जाने के बाद ‘राबडी देवी’ से सीबीआई टीम ने पहली बार पूछताछ की है. आपको याद दिला दें कि इस मामले को लेकर पिछले साल अक्टूबर में ‘तेजस्वी यादव’ और ‘लालू प्रसाद यादव से दिल्ली में पूछताछ की गई थी. 

ध्यान देने वाली बात यह है कि रेल मंत्री रहते हुए लालू प्रसाद यादव अपने पद का गलत तरीके से उपयोग किया और उन्होंने रांची तथा पुरी के रेलवे होटल के रखरखाव का टेंडर कोचर बंधुओं को दिया था. जानकारी के अनुसार ‘कोचर बंधु’ ‘सुजाता होटल’ के मालिक हैं.

रेलवे घोटाले को लेकर सीबीआई ने राबड़ी और तेजस्वी से की पूछताछ! सामने आई ये चौंका देने वाली सच्चाई
लालू प्रसाद यादव और तेजस्वी यादव

लालू यादव को इस कम के लिए साल 2005 में कोचर बंधुओं नेपटना स्थित तीन एकड़ जमीन को दस सेलडीड द्वारा ‘सरला गुप्ता’ की कंपनी ‘डीएमसीएल’ को ट्रांसर्फर की गई और उसके बाद पूर्व रेल मंत्री की पत्नी राबड़ी की कंपनी लारा प्रोजेक्ट्स को बदला गया. रेलवे घोटाले के मामले में लालू यादव के छोटे पुत्र और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री ‘तेजस्वी यादव’ को भी आरोपी करार दिया है.

Loading...