मसूद अजहर को लेकर चीन ने भारत के सामने रखी थी बड़ी शर्त! जिसके बाद भारत ने पाक को लेकर कही थे ते बात…

645

China had a great condition in front india of Masood Azhar (नई दिल्ली) : जैश-ए-मोहम्मद सरगना मौलाना ‘मसूद अजहर’ को लेकर एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. सूत्रों की माने तो भारत और चीन के बीच हुई उच्च स्तरीय बैठक में बीजिंग ने भारत को एक ऑफर देते हुए कहा था कि वह मसूद पर लगी रोक हटाने के लिए तैयार है, लेकिन शर्त है कि भारत को ‘पुलवामा आतंकी हमले’ और पाकिस्तान पर हमले के बाद आए रिश्तों में तनाव को कम करे. भारत ने चीन की इस शर्त मानने से साफ इनकार कर दिया. 

मसूद अजहर को लेकर चीन ने भारत के सामने रखी थी बड़ी शर्त! जिसके बाद भारत ने पाक को लेकर कही थे ते बात...
मसूद अजहर

आपको याद दिला दें कि बीते 14 फरवरी को ‘जैश-ए-मोहम्मद’ के आत्मघाती हमलावर ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया था. जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे. इस हमले के बाद पूरे भारत में आक्रोश और गुस्सा बन गया था. तब प्रधानमंत्री ‘नरेंद्र मोदी’ ने कहा था कि आतंकियों को इसका मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा. 

पुलवामा हमले के बाद 26 फ़रवरी को ‘भारतीय वायुसेना’ ने पाकिस्तान में घुसकर ‘एयरस्ट्राइक’ कर आंतकी कैंपों तबाह कर दिया था. इस कार्रवाई में जैश के कई ठिकाने नेस्तानाबूत हो गए थे. भारत के इस कदम को आत्मरक्षा के तौर पर देखा गया और वैश्विक समुदाय ने इसपर सहमति जताई. जिससे यह साफ हो गया था कि भारत अगर पाकिस्तान समर्थित आतंकवाद के खिलाफ जवाबी कार्रवाई करता है तो वह इसके लिए कूटनीतिक दबाव सहन नहीं करेगा.

मसूद अजहर को लेकर चीन ने भारत के सामने रखी थी बड़ी शर्त! जिसके बाद भारत ने पाक को लेकर कही थे ते बात...
नरेंद्र मोदी

ध्यान देने वाली बात यह है कि चीन भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध को रोकना चाहता था. जिसको लेकर चीन ने  भारत के उच्च अधिकारियों के साथ बातचीत में ऑफर देते हुए कहा था कि मसूद अजहर के बदले भारत बढ़ रहे तनाव को कम करे. आपको याद दिला दें कि चीन 2016 और 2017 में मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के रास्ते में बाधा बना था. 

यह भी पढ़े : मसूद अजहर वैश्विक आतंकी घोषित होने के बाद आतंकवाद को लेकर विदेश मंत्रालय के इस धमाकेदार बयान से उड़ी पाकिस्तान की धज्जियां…

चीन ने भारत से कहा था कि वह इस इस मामले को लेकर सीधे पाकिस्तान के साथ बातचीत करे. दरअसल भारत ने साफ इंकार करते हुए कहा था कि वह पाकिस्तान के साथ कोई बात नहीं करेगा. भारत ने आधिकारिक तौर पर पाकिस्तान के साथ बातचीत को बंद किया हुआ है.

मसूद अजहर को लेकर चीन ने भारत के सामने रखी थी बड़ी शर्त! जिसके बाद भारत ने पाक को लेकर कही थे ते बात...
शी जिनपिंग

गुरुवार 2 मई को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता से सवाल किया गया कि क्या ‘संयुक्त राष्ट्र’ के फैसले में ‘पुलवामा आतंकी हमले’ का जिक्र न होना चीन के साथ हुई बातचीत का परिणाम था? इसके जवाब में उन्होंने कहा कि ‘हम आतंकवाद और राष्ट्रीय सुरक्षा के मसले पर किसी देश के साथ कोई बातचीत नहीं करते हैं. हमारा उद्देश्य मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने का था.’

loading...