यूएनएससी बैठक के चलते जैश सरगना मसूद अजहर को बचाने के लिए चीन ने भारत के खिलाफ चली ये दोहरी चाल…

879

China made this double move against India to save Masood Azhar in the UNSC meeting (नई दिल्ली) : आतंक के सरगना मसूद अजहर को लेकर ‘चीन’ से ‘भारत’ के साथ एक बार फिर से चाल चली है. सूत्रों की माने तो ‘जैश-ए-मोहम्मद’ प्रमुख मौलाना ‘मसूद अजहर’ पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) की बैठक में वैश्विक आतंकवादी घोषित करने को लेकर बड़ा फैसला आने वाला है.

यूएनएससी के बीच जैश सरगना मसूद अजहर को बचाने के लिए चीन ने भारत के खिलाफ चली ये दोहरी चाल...
मसूद अजहर

“संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद” (यूएनएससी) का फैसला आने से कुछ घंटे पहले ही चीन ने संकेत देते हुए कहा कि वह एक बार फिर इस कदम को रोक सकता है. बुधवार 13 मार्च को मसूद अजहर को लेकर यूएनएससी की बैठक में अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन इस प्रस्ताव को लाने वाले हैं.

चीन का कहना है कि फैसला ऐसा होना चाहिए जो सभी पक्षों को स्वीकार्य हो और परेशानी समस्या को हल करने वाला हो. आपको बता दें कि आज होने वाली इस बैठक में जैश सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी के रूप में नामित करने के लिए प्रस्ताव लाया जाएगा. जिसके बाद इस विषय पर अन्य देशों की आपत्तियां मंगाई जाएंगी.

यूएनएससी के बीच जैश सरगना मसूद अजहर को बचाने के लिए चीन ने भारत के खिलाफ चली ये दोहरी चाल...
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी)

सूत्रों की माने तो संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 अलकायदा प्रतिबंध समिति के तहत मसूद अजहर को नामित करने का प्रस्ताव 27 फरवरी को फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका द्वारा प्रस्तुत किया गया था.

यह भी पढ़े : पुलवामा आतंकी हमले के मास्टरमाइंड मसूद अजहर के पक्ष में राहुल ने दिया ये देशद्रोही बयान!

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ‘लु कांग’ ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि ‘मैं यह दोहराता हूं कि चीन जिम्मेदाराना रवैया अपनाना जारी रखेगा और यूएनएससी की 1267 समिति के विचार-विमर्श में हिस्सा लेगा.’

यूएनएससी के बीच जैश सरगना मसूद अजहर को बचाने के लिए चीन ने भारत के खिलाफ चली ये दोहरी चाल...
लु कंग और शी जिनपिंग

ध्यान देने वाली बात यह है कि चीन यूएनएससी में वीटो की शक्ति रखनेवाला सदस्य माना जाता है और सभी की नजरें चीन पर टिकी हैं. जो पहले यूएनएससी द्वारा मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कराने के भारत की कोशिश में बाधा बन चुका है. चीन इस बात पर जोर दे रहा है कि समाधान सभी को स्वीकार्य होना चाहिए.

loading...