एक बार फिर से खुली कांग्रेस की पोल! दलितों के पक्ष में उपवास से पहले ही कर डाली ये शर्मनाक हरकत

95

नई दिल्ली : जैसा कि हम सभी जानते हैं कि ‘एससी-एसटी एक्ट’ में बदलाव को लेकर ‘सुप्रीम कोर्ट’ ने फैसला सुनाया है. जिसको लेकर बीते 2 अप्रैल को भारत बंद के दौरान दलितों ने आंदोलन किया. देशभर में दलितों ने हिंसा में कई राज्य आग ले हवाले कर दिए और कई लोगों की जान भी गयी.

एक बार फिर से खुली कांग्रेस की पोल! दलितों के पक्ष में उपवास से पहले ही कर डाली ये शर्मनाक हरकत
दलित आंदोलन

जानकारी के अनुसार कांग्रेस दलितों पर अत्याचार के मुद्दे को लेकर बहुत ही जोर-शोर से एक दिन का उपवास करने का ऐलान किया था. कांग्रेस अपनी चाल में बुरी तरह फंस गई है. जानकारी के अनुसार उपवास का बहाना लेकर कांग्रेस के अध्यक्ष ‘अजय माकन, हारुन यूसुफ और अरविंदर सिंह लवली ‘ छोले-भटूरे खाते हुए नजर आये हैं. छोले-भठूरे खाते हुए तस्विस सामने आने के बाद ‘अरविंद सिंह लवली’ ने इज्जत बचने के लिए बड़े ही अजीब तरीके से सफाई देते हुए कहा है कि हमारा उपवास तो 10 बजे से था सामने आई तस्वीर तो सुबह 8 बजे की है. इस तस्वीर के सामने आने के बाद कांग्रेसी नेता बगले झांकते हुए दिखाई दिए. 

एक बार फिर से खुली कांग्रेस की पोल! दलितों के पक्ष में उपवास से पहले ही कर डाली ये शर्मनाक हरकत

कांग्रेस नेता लवली की बात पर सवाल उठाते हुए लोगों ने कहा है कि जब उपवास का समय 10 बजे से तय था तो कांग्रेस अध्यक्ष ‘राहुल गांधी’ पौने एक बजे के आप-पास क्यों पहुंचे. इस तस्वीर के बाद अब यह बात साफ है कि कांग्रेस का ये देशव्यापी उपवास अब विवादों में घिरता हुआ दिखाई दे रहा है. इससे पहले राजघाट पर ही राहुल के पहुंचने से पहले कांग्रेस नेता ‘जगदीश टाइटलर’ और ‘सज्जन कुमार’ के मंच पर पहुंच जाने के कारण बवाल खड़ा हो गया था.   

एक बार फिर से खुली कांग्रेस की पोल! दलितों के पक्ष में उपवास से पहले ही कर डाली ये शर्मनाक हरकत
राहुल गांधी

ध्यान देने वाली बात यह है कि आज कांग्रेस दलितों को लेकर अत्याचार, संसद न चलने देने और सांप्रदायिक सौहार्द का मुद्दा उठाकर देशभर में अनशन करटी दिखाई दे रही है. ‘अशोक गहलोत’ की तरफ से पार्टी के सभी प्रदेश अध्यक्षों, एआईसीसी महासचिवों/प्रभारियों और विधायक दल के नेताओं के भेजे गए दिशा निर्देश में कहा गया है कि सांप्रदायिक सौहार्द को बचाने और बढ़ाने के लिए सभी राज्यों और जिलों के कांग्रेस मुख्यालयों में 9 अप्रैल को उपवास रखा जाए.

एक बार फिर से खुली कांग्रेस की पोल! दलितों के पक्ष में उपवास से पहले ही कर डाली ये शर्मनाक हरकत
अशोक गहलोत

शुक्रवार को भाजपा संसदीय दल की बैठक में निर्णय लिया गया था कि जिसमें भाजपा सांसदों ने कहा था कि वे कांग्रेस की विभेदकारी नीतियों के खिलाफ 12 तारीख़ को उपवास रखें. इसके आगे उन्होंने कहा कि जिस तरह से दलितों के मामले में तूल पकड़ा और ‘भारत बंद’ के क्घ्लते जो हिंसा हुई इसके लिए ‘भाजपा’ को विपक्ष को जिम्मेदार ठहरा रही है.

Loading...