जम्मू-कश्मीर : एक बार फिर से आतंकियों का काल बनी भारतीय सेना! इस खूंखार आतंकी को किया ढेर

148

Indian Army killed Shaukat bin Yusuf alias Khalid Dawood Salafi of Tehrik-e-Mujahideen’s Divisional Commander (श्रीनगर) : जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षबल के जवानों ने आतंकी संगठन ‘तहरीक-ए-मुजाहिदीन’ का डिविजनल कमांडर ‘शौकत बिन युसुफ उर्फ खालिद दाऊद सलाफी’ को आठ मिनट की मुठभेड़ में ढेर कर दिया. सूत्रों की माने तो यह आतंकी ने 16 दिन पहले संगठन में शामिल हुआ था. अलबत्ता, उसके अन्य साथी वहां से भागने में कामयाब रहे. शौकत समेत तीन युवक इसी माह इस आतंकी संगठन से जुड़े थे.

जम्मू-कश्मीर : एक बार फिर से आतंकियों का काल बनी भारतीय सेना! इस खूंखार आतंकी को किया ढेर

सूत्रों की माने तो एक विशेष सूचना पर सेना की 50 आरआर और राज्य पुलिस के विशेष अभियान दल के जवानों ने मिलकर काकपोरा पुलवामा में दुगाम के नजदीक नाका लगाया हुआ था. सुरक्षबलों को सूचना मिली थी कि वहां से आतंकियों का एक दल गुजरने वाला है. नाका पार्टी ने तड़के कुछ लोगों को वहां से गुजरते देख, उन्हें रुकने और अपनी पहचान बताने के लिए चेतावनी दी. परंतु इन लोगों ने नाका पार्टी पर फायर करते हुए वहां से भागने की कोशिश की. जिसके जवाब में आतंकियों पर फायर किया. करीब आठ मिनट तक दोनों तरफ से फायरिंग हुई.

 

जम्मू-कश्मीर : एक बार फिर से आतंकियों का काल बनी भारतीय सेना! इस खूंखार आतंकी को किया ढेर
आतंकवादी

ध्यान देने वाली बात यह है कि जब आतंकियों की ओर से गोलियां चलनी बंद हुई तो सुरक्षाबलों ने मुठभेड़स्थल की तलाशी ली तो उन्हें वहां गोलियों से छलनी एक आतंकी का शव बरामद हुआ. बाद में उसकी पहचान ‘शौकत अहमद बट उर्फ खालिद दाऊद सलाफी’ पुत्र ‘युसुफ बट’ निवासी पडगामपोरा, अवंतीपोरा के रूप में हुई. सूत्रों की माने तो मारा गया आतंकी इसी माह दो अक्टूबर को तहरीक उल मुजाहिदीन में शामिल हुआ था. वह कश्मीर विश्वविद्यालय से बी फार्मेसी की डिग्री प्राप्त कर चुका है.

यह भी पढ़े : आतंकियों पर मौत बनकर बरसी भारतीय सेना!

ढेर हुए आतंकी के अलावा तीन युवक ‘फैजान मजीद’ और ‘नसीर अहमद तेली’ इसी माह के दौरान आतंकी संगठन ‘तहरीक उल मुजाहिदीन’ में शामिल हुए थे.

जम्मू-कश्मीर : एक बार फिर से आतंकियों का काल बनी भारतीय सेना! इस खूंखार आतंकी को किया ढेर

पिछले शुक्रवार12 अक्टूबर को इन तीनों की तस्वीरें एक साथ सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी, परंतु अब इनमें से सिर्फ सोपोर का रहने वाला ‘नसीर अहमद तेली उर्फ डा इसाक’ ही जिंदा है. फैजान मजीद गत बुधवार को पट्टन, बारामुला में उस समय पकड़ा गया था, जब वह एक नाका पार्टी पर हमला कर अपने साथियों संग भाग रहा था। हमले में एक डीएसपी समेत चार लोग जख्मी हुए.

loading...