आतंकी मंसूबो को नाकाम करने के लिए दिल्ली पुलिस को मिली ये ताकत! जिससे आतंकियों को मिलेगा मुंहतोड़ जवाब…

47

Initiated a modern control room in Delhi Police to thwart terror suspects (नई दिल्ली) : इस बात को आप भलीभांति जानते हैं कि देश में लगातार आतंकी गतिविधियां बढ़ती जा रही है. जिसको रोकने के लिए ‘दिल्ली पुलिस’ ने एक बड़ी चीज को शामिल किया है. सूत्रों की माने तो मंगलवार 19 मार्च को किसी भी बड़े आयोजन के समय पुलिस की संचार सेवा को दुरुस्त करने के लिए दिल्ली पुलिस के बेड़े में बेहद आधुनिक उपकरणों से लैस एक नई चलता फिरता ‘कंट्रोल रूम’ शामिल हो गई.

आतंकी मंसूबो को नाकाम करने के लिए दिल्ली पुलिस को मिली ये ताकत! जिससे आतंकियों को मिलेगा मुंहतोड़ जवाब...

जैसा कि आप जानते होंगे कि इससे पहले कम्यूनिकेशन के लिए ‘मोबाइल कंट्रोल रूम’ वाले वाहन मौजूद थे, परंतु अब दिल्ली पुलिस के बेड़े में चलता फिरता कंट्रोल रूम को शामिल किया. यह पहले से कहीं ज्यादा अत्याधुनिक उपकरणों से लैस किया गया है.

यह भी पढ़े : अपराधियों पर चला दिल्ली पुलिस का चाबुक!

सूत्रों की माने तो इसके द्वारा किसी भी बड़ी रैली, 15 अगस्त और 26 जनवरी जैसे अवसरों के मौके पर इसको ले जाकर वहां की संचार सेवा को और बेहतर बनाया जा सकेगा. इस बस में एक आधुनिक पीटीजेड कैमरा लगाया गया है जो चारों दिशाओं में दूर तक नजर रख सकता है.

आतंकी मंसूबो को नाकाम करने के लिए दिल्ली पुलिस को मिली ये ताकत! जिससे आतंकियों को मिलेगा मुंहतोड़ जवाब...

अतिरिक्त पुलिस आयुक्त ‘प्रेमनाथ’ ने जानकारी देते हुए कहा कि मंगलवार 19 फ़रवरी को इसे पुलिस में शामिल किया गया. दिल्ली पुलिस कम्यूनिकेशन हेडक्वार्टर, शालीमार बाग में इसकी खासियतों के बारे में बताया गया. 

इस अवसर पर दिल्ली पुलिस आयुक्त ‘अमूल्य पटनायक’ के अलावा कई अन्य विशेष आयुक्त उपस्थित रहे. पुलिस आयुक्त प्रेमनाथ ने कहा कि वायरलेस द्वारा विभिन्न जिलों में संचार सिस्टम, ट्रैफिक, सिक्योरिटी व अन्य कम्युनिकेशन सिस्टम को इमरजेंसी समय में बहाल किया जा सकेगा.

आतंकी मंसूबो को नाकाम करने के लिए दिल्ली पुलिस को मिली ये ताकत! जिससे आतंकियों को मिलेगा मुंहतोड़ जवाब...
अमूल्य पटनायक

साथ ही इसे डीजी सेट कांफ्रेंस रूम में भी तब्दील किया जा सकता है. सूत्रों की माने तो इसे पूरी तरह ‘ईको फ्रेंडली सिस्टम’ के तहत तैयार किया गया है. बहुत ही कम समय इन सभी सुविधाओं को स्थापित कर सकती है. वीआईपी, वीवीआईपी और चुनाव के समय हो रहे इंतजामों में इसकी विशेष भूमिका हो सकती है.

loading...