देश की सुरक्षा को लेकर मोदी सरकार ने लिया ये धमाकेदार फैसला! जिससे पाक-चीन मचा हाहाकार…

760

Modi government took this blatant decision about the country’s security (नई दिल्ली) : “अन्तर्राष्ट्रीय सीमा” पर पाकिस्तान और चीन की गतिविधियों ने निपटने के लिए केंद्र की ‘मोदी सरकार’ ने नई रणनीति तैयार की है. जिससे पाक-चीन पर नजर रखी जा सकेगी. सूत्रों की माने तो दुश्मन के मिसाइल और बमबारी से एयर बेस को बचाने के लिए नई रणनीति बनाई है.

देश की सुरक्षा को लेकर मोदी सरकार ने लिया ये धमाकेदार फैसला! जिससे पाक-चीन मचा हाहाकार...
नरेंद्र मोदी

केंद्र सरकार ने ‘भारतीय वायुसेना’ को ‘चीन-पाकिस्तान सीमा’ से सटे हुए इलाकों में लगभग 110 ठिकाने बनाने की अनुमति दी है. मीडिया से बातचीत के दौरान सरकारी सूत्रों ने कहा कि केंद्र सरकार ने लगभग 110 ठिकानों के निर्माण के लिए एक परियोजना को अनुमति दे दी है. इस परियाजना के माध्यम से फाइटर प्लेन को दुश्मन की मिसाइल और बॉमिंग से बचाएगी, जिसको ‘ब्लास्ट पेन’ भी कहा जाता है.

इसके आगे उन्होंने कहा कि इस परियोजना में 5000 करोड़ से अधिक खर्च होगा और ब्लास्ट पेन एयर बेस की तर्ज पर बनाए जाएंगे. इस कदम से भारतीय वायुसेना अपने ‘फ्रंटलाइन प्लेन’ को बिना जमीनी नुकसान की चिंता के फॉरवर्ड बेस पर तैनात कर सकेगी.

देश की सुरक्षा को लेकर मोदी सरकार ने लिया ये धमाकेदार फैसला! जिससे पाक-चीन मचा हाहाकार...

सूत्रों की माने तो ‘भारतीय वायुसेना’ अब तक इस सुविधा के बिना आपरेशन के समय फ्रंटलाइन प्लेन्स को पाकिस्तान सीमा के पास कुछ चुनिंदा स्थानों पर तैनात करती थी.

यह भी पढ़े : मोदी राज में मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के इस खास आदमी पर ईडी ने की ये धमाकेदार कार्रवाई…

आपको याद हो कि 26 फरवरी के पाकिस्तान पर ‘एयरस्ट्राइक’ की थी. जिसके बाद 27 फरवरी को पाकिस्तान ने भारतीय सैन्य ठिकानों पर हमला किया था. इसके अलावा आपको यह भी याद दिला दें कि वर्ष 1965 के युद्ध के दौरान भी वायुसेना अपने कई विमान खोए थे, तब से ही एयरक्राफ्ट की सुरक्षा के लिए वायुसेना ब्लास्ट प्लेन बना रही है.

देश की सुरक्षा को लेकर मोदी सरकार ने लिया ये धमाकेदार फैसला! जिससे पाक-चीन मचा हाहाकार...

इस परियोजना के अंतर्गत पाक-चीन की सीमा पर 100 ठिकानों में मोटी कंक्रीट की दीवारें बनाई जाएंगी, जो दुश्मन के बड़े हमले से बचाएगी. साथ ही भारत अपने दुश्मन पाकिस्तान-चीन से निपटने में आसनी निपट पाएगा. वर्तमान हालात को देखकर यह महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकता है.

loading...