आतंकवाद को लेकर जिनेवा में पीओके के लोगों का पाकिस्तान पर फूटा गुस्सा! जिससे पाकिस्तान में पसरा मातम…

47

People of POK protested against Pakistan on terrorism in Geneva (जिनेवा) : जैसा की आप जानते हैं आए दिन पाकिस्तान को किसी न किसी कारण पूरी दुनिया में बदनाम होना पड़ता है.  ऐसी ही एक और बड़ी खबर आई है. जिसके बाद पाकिस्तान में मातम पसर गया है. सूत्रों की माने तो ‘पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर’ (पीओके) के राजनीतिक कार्यकर्ता जो यूरोप और ब्रिटेन में रह रहे हैं, वो इसका लगातार विरोध कर रहे है.

आतंकवाद को लेकर जिनेवा में पीओके के लोगों का पाकिस्तान पर फूटा गुस्सा! दे डाली ये बड़ी चेतावनी...

ध्यान देने वाली बात यह है कि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के 41वें सत्र के दौरान स्विटजरलैंड के जिनेवा में यूरोप और ब्रिटेन में रहने वाले पीओके के पॉलिटिकल कार्यकर्ताओं ने पाकिस्तान के खिलाफ विरोध किया. इस दौरान उन्होंने पकिस्तान के खिलाफ नारे लगाए और ‘दमन चक्र’ के खिलाफ आजादी के नारे बुलंद किया.

उन्होंने पाकिस्तान पर आरोप लगाते हुए कहा कि इलाके के संसाधनों का दोहन कर तेजी से बढ़ रहे आतंकी कैंपों में लगाया जा रहा है. साथ ही पॉलिटिकल कार्यकर्ताओं ने गिलगित बाल्टिस्तान और पीओके के लोगों की दशा पर रोशनी डाली.

आतंकवाद को लेकर जिनेवा में पीओके के लोगों का पाकिस्तान पर फूटा गुस्सा! दे डाली ये बड़ी चेतावनी...

सूत्रों की माने तो पॉलिटिकल कार्यकर्ताओं ने जूडिशरी के खराब स्थिति को भी उठाया जो सुरक्षा एजेंसियों के बढ़ते हस्तक्षेप के बीच काफी पक्षपात भरे निर्णय सुना रहा है.

यह भी पढ़े : ब्रिक्स जी-20 सम्मेलन में आतंकवाद को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने पाकिस्तान के खिलाफ लिया ये धमाकेदार फैसला…

युनाइटेड कश्मीर पीपल्स नैशनल पार्टी (यूकेपीएनपी) के चेयरमैन ‘शौकत अली कश्मीरी’ का कहना है कि ‘हमने यह प्रदर्शन पाकिस्तान में हो रहे मानवाधिकार उल्लंघन और गड़बड़ियों को सामने लाने के लिए किया. इन इलाकों में लोगों की आवाज को दबाया जा रहा है. इस सबका जिम्मेदार पाकिस्तान और चीन है.’

आतंकवाद को लेकर जिनेवा में पीओके के लोगों का पाकिस्तान पर फूटा गुस्सा! दे डाली ये बड़ी चेतावनी...

इसके आगे शौकत ने कहा कि ‘इस प्रदर्शन द्वारा हमने आतंकी शिविरों को खत्म करने की मांग की है. साथ ही राजनीतिक बंदियों की रिहाई और निष्पक्षता की मांग की है. हमने जूडिशल मामलों में खुफिया एजेंसियों के हस्तक्षेप को बंद करने की भी मांग की है.’

loading...