लोकसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी ने कांग्रेस के एक-एक घोटालों का किया पर्दाफाश! कहा- जीप से शुरू हुआ घोटाला और अब…

157

PM Modi exposes one scam of Congress before Lok Sabha elections (नई दिल्ली) : जैसा कि आप जानते हैं कि आगामी कुछ ही समय बाद ‘लोकसभा चुनाव’ होने वाले हैं जिसको लेकर सभी पार्टियां अपनी-अपनी तैयारियों में लगी हुई है. इसी बीच प्रधानमंत्री ‘नरेंद्र मोदी’ ने कांग्रेस पर वंशवाद की राजनीति करने का आरोप लगाया है. जिसके बाद कांग्रेस में मातम पसर गया है.

लोकसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी ने कांग्रेस के एक-एक घोटालों का किया पर्दाफाश! कह- जीप से शुरू हुआ घोटाला और अब...
नरेंद्र मोदी

उन्होंने कहा कि ‘वंशवाद की राजनीति से सबसे अधिक नुकसान संस्थाओं को हुआ है. प्रेस से पार्लियामेंट तक, सोल्जर्स से लेकर फ्री स्पीच तक, कॉन्स्टिट्यूशन से लेकर कोर्ट तक, कुछ भी नहीं छोड़ा. भारत ने देखा है कि जब भी वंशवादी राजनीति हावी हुई तो उसने देश की संस्थाओं को कमजोर करने का काम किया.’

इसके आगे पीएम मोदी ने कहा कि ‘जो पार्टियां वंशवाद को बढ़ावा दे रही हैं वह कभी भी स्वतंत्र और निर्भीक पत्रकारिता के साथ सहज नहीं रही हैं. इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है कि कांग्रेस सरकार द्वारा लाया गया सबसे पहला संवैधानिक संशोधन फ्री स्पीच पर रोक लगाने के लिए ही था. फ्री प्रेस यह है कि वो सत्ता को सच का आईना दिखाए, परंतु उसे अश्लील और असभ्य की पहचान देने का प्रयास किया गया’

यह भी पढ़े : पीएम मोदी ने किसानों को लेकर कांग्रेस-जेडीएस की खोली पोल!

प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी कहा कि ‘अदालतों के फैसलों को न मानना में तो कांग्रेस ने महारत हासिल कर ली है. आपको याद हो कि श्रीमती ‘इंदिरा गांधी’ ही थीं, जो ‘प्रतिबद्ध न्यायपालिका’ चाहती थीं. वह चाहती थीं कि अदालतें संविधान की जगह एक परिवार के प्रति वफादार रहें. सूत्रों की माने तो कांग्रेस ने ‘प्रतिबद्ध न्यायपालिका’ की इसी चाहत में भारत के चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया की नियुक्ति के समय कई सम्मानित जजों को अनदेखा किया था.

लोकसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी ने कांग्रेस के एक-एक घोटालों का किया पर्दाफाश! कह- जीप से शुरू हुआ घोटाला और अब...
इंदिरा गांधी और राहुल गांधी

कांग्रेस का कार्य करने का तरीका यह है कि ‘पहले नकारो, फिर अपमानित करो और इसके बाद धमकाओ। यदि कोई न्यायिक फैसला उनके खिलाफ जाता है, तो वे इसे पहले नकारते हैं, फिर जज को बदनाम करते हैं और उसके बाद जज के खिलाफ महाभियोग लाने में जुट जाते हैं.’

ध्यान देने वाली बात यह है कि तो पहले से ही कांग्रेस रक्षा क्षेत्र को कमाई के एक स्रोत के रूप में देखती आई है. इसका इसका सबसे बड़ा कारन यह है कि कांग्रेस द्वारा कभी भी हमारे सशस्त्र बलों को वह सम्मान प्राप्त नहीं हुआ, जो उन्हें मिलना चाहिए था. 1947 में देश आजाद होने के बाद से ही कांग्रेस की प्रत्येक सर्कार ने तरह-तरह के रक्षा घोटाले किये. इन घोटालों की शुरुआत जीप से हुई थी, जो ‘तोप, पनडुब्बी और हेलिकॉप्टर’ तक पहुंच गई. जो भी लोग इनमें मिले हुए हैं उनका एक खास परिवार से जुड़ा रहा है. आपको यह अच्छे से याद होगा कि कांग्रेस पार्टी के ही एक नेता ने जब सेना प्रमुख को गुंडा कहा तो कांग्रेस पार्टी में उसका कद बढ़ा दिया गया. इस यह मालूम होता है कि अपनी सेना के प्रति भी वे कैसा तिरस्कार का भाव रखते हैं.

सूत्रों की माने “कांग्रेस के व्यवहार में एक सामान्य कानूनी प्रक्रिया में भी घमंड और अधिकार का भाव नजर आता है. आज के समय में कांग्रेस जे बड़े-बड़े घोटालों में शामिल नेता जमानत पर बाहर है. जब कभी कोई अथॉरिटी घोटाले से जुड़े सवाल करती है तो तो वे लोग जवाब देना भी सही नहीं समझते. क्या वे लोग अपनी जवाबदेही से डरे हुए हैं?

लोकसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी ने कांग्रेस के एक-एक घोटालों का किया पर्दाफाश! कह- जीप से शुरू हुआ घोटाला और अब...

इस बात को जरा गौर से सोचिए कि कांग्रेस का ‘प्रेस से पार्लियामेंट तक. सोल्जर्स से लेकर फ्री स्पीच तक. कॉन्स्टिट्यूशन से लेकर कोर्ट तक संस्थाओं को अपमानित करना रवैया रहा है.’ कांग्रेस की यही सोच है कि सब गलत हैं, और सिर्फ कांग्रेस सही है. यानि ‘खाता न बही, जो कांग्रेस कहे, वही सही’.

loading...