हिंसा के बाद ताहिर हुसैन हुआ फरार : AAP से निकालते ही उसके बचाव में आगे आया अमानतुल्लाह खान

140

नई दिल्ली : हिंदू विरोधी दंगों के दौरान आप पार्षद ताहिर हुसैन का चॉंदबाग स्थित घर हिंसा का मुख्य केंद्र था। पूछताछ में स्थानीय लोगों ने बताया कि उसकी इमारत में करीब 3000 दंगाई जमा थे। उसके घर की छत पर पत्थरों और पेट्रोल बम का जखीरा मिला है। यहॉं से पत्थरबाजी हुई थी और पेट्रोल बम फेंके गए थे। आईबी के अंकित शर्मा की हत्या भी उसके ही गुंडों ने की थी।

हिंसा के बाद ताहिर हुसैन हुआ फरार : AAP से निकालते ही उसके बचाव में आगे आया अमानतुल्लाह खान

अब जानकारी यह मिली है कि ताहिर हुसैन फरार हो गया है। दिल्ली हिंसा और अंकित शर्मा की हत्या के सिलसिले में मामला दर्ज होने के ठीक एक दिन बाद उसके फरार होने की खबर सामने आई है। टाइम्स नाउ ने यह जानकारी दी है।

बता दें कि AAP ने ताहिर हुसैन को कल पार्टी से निलंबित कर दिया था। दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने भी कहा था कि दंगा में शामिल किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाना चाहिए, चाहे वो किसी भी पार्टी का हो। इसके बाद ही पार्टी से ताहिर हुसैन की निलंबन की बात सामने आई। खुद पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से रात के 10.06 पर इसकी जानकारी दी गई।

साफतौर पर ट्वीट में बताया गया कि दिल्ली हिंसा मामले में पार्षद ताहिर हुसैन को जाँच पूरी होने तक आम आदमी पार्टी से निलंबित कर दिया गया है। लेकिन थोड़ी देर बाद ही पार्टी के ‘अज़ीज़’ नेता ताहिर के बचाव में उतर आए और उसे निर्दोष घोषित करने लगे।

AAP विधायक अमानतुल्लाह खान ने पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट आने के करीब 16 मिनट बाद यानी 10: 21 पर ही अपने अकाउंट से ट्वीट किया। अमानतुल्लाह ने ताहिर खान को बेकसूर घोषित कर दिया। साथ ही भाजपा पर आरोप लगाया कि अपने नेताओं को बचाने के लिए और आम आदमी पार्टी को बदनाम करने के लिए ताहिर हुसैन को झूठे केस में फँसा रही है।

गौरतलब है कि पार्टी की ओर से आए आधिकारिक बयान और अमानतुल्लाह खान की ओर से जारी बयान में गहरा विरोधाभास है। पार्टी एक ओर जहाँ ताहिर हुसैन के ख़िलाफ़ एक्शन लेकर जनता के सामने अपनी छवि बचाने की कोशिश कर रही है, वहीं अमानतुल्लाह दंगों में जिसकी मुख्य भूमिका बताई जा रही उसका बचाव कर रहे हैं।

ताहिर हुसैन पर कल दयालपुर पुलिस थाने में आईपीसी की धारा-302 (हत्या) का मामला दर्ज किया गया। आईबी ऑफिसर अंकित शर्मा सहित 4 लोगों को मार कर उनकी लाश को नाले में फेंकने का आरोप है। साथ ही दिल्ली पुलिस ने ताहिर हुसैन के घर को सील कर उसके ख़िलाफ़ जाँच शुरू कर दी है। नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के खजूरी ख़ास क्षेत्र स्थित ताहिर हुसैन की फैक्ट्री को भी सील कर दिया गया है।

एफआईआर दर्ज किए जाने से पहले ताहिर ने विडियो जारी कर अपनी भूमिका पर सफाई दी थी। उसका कहना था, “बहुत सारी भीड़ जबर्दस्ती मेरा गेट तोड़ अंदर आना चाहती थी। मैंने पुलिस बुलाई। वो आए। हमारे मकान की तलाशी ली गई। जब कोई दंगाई नहीं दिखा तो मैं पुलिस के सहयोग से जान बचाकर बाहर निकला। पुलिसवालों की निगरानी एक दिन रही उसके बाद पुलिस चली गई। मैं एक सच्चा, अच्छा भारतीय मुसलमान हूँ, मैं आगे भी हिंदू-मुसलमान भाईचारे के लिए काम करता रहूँगा। मैं खुद जान बचाकर परिवार के साथ एक रिश्तेदार के पास हूँ। मैं बच्चे की सौगंध खाकर कहता हूँ कि इन सबसे मेरा कोई लेना-देना नहीं है। मैं इस तरह की घटिया राजनीति नहीं कर सकता।”

loading...