पुलवामा आतंकी हमले के बाद पैदा हुए तनाव को खत्म करने के लिए भारत और पाकिस्तान के बीच हुई ये पहली कोशिश…

49

This first attempt was made between India and Pakistan to eliminate the tension born after the Pulwama terror attack (इस्लामाबाद) : इस बात को आप भलीभांति जानते हैं कि 14 फ़रवरी को ‘भारतीय सेना’ के काफिले पर हुए ‘पुलवामा आतंकी हमले’ के बाद से ही ‘भारत’ और ‘पाकिस्तान’ में तनाव बना हुआ है. सूत्रों की माने तो पाकिस्तान ने कई बार भारत दोनों देशों के रिश्तों में सुधार को लेकर बात की लेकिन भारत ने पाकिस्तान को पहले ‘आतंकवाद’ पर रोक लगाने की मांग की.

पुलवामा आतंकी हमले के बाद पैदा हुए तनाव को खत्म करने के लिए भारत और पाकिस्तान के बीच हुई ये पहली कोशिश...

इसी बीच सामाजिक गतिविधियों से जुड़े भारत और पाकिस्तान के लोग दोनों देशों के तनाव को दूर करने के लिए आगे आए हैं. सूत्रों की माने तो ‘ट्रैक-2 वार्ता’ के तहत इन लोगों ने इस्लामाबाद में दो दिन तक द्विपक्षीय मामलों को लेकर बातचीत की. पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद दोनों देशों में पैदा तनाव को कम करने का यह पहला कोशिश है.

यह भी पढ़े : पुलवामा हमले के बाद धारा 370 को लेकर कल्याण सिंह का सामने आया ये धमाकेदार बयान…

कहा जा रहा है कि राजनीति और विवाद से अलग नई शुरुआत, शीर्षक वाली पहल इस्लामाबाद की संस्था ‘रीजनल पीस इंस्टीट्यूट’ (आरपीआइ) ने की है. आरपीआइ के मुख्य कार्यकारी ‘रऊफ हसन’ ने ट्वीट करते हुए लिखा कि बैठक में कोई औपचारिक वार्ता नहीं हुई. इस दौरान किसी खास मुद्दे पर चर्चा नहीं हुई.

पुलवामा आतंकी हमले के बाद पैदा हुए तनाव को खत्म करने के लिए भारत और पाकिस्तान के बीच हुई ये पहली कोशिश...
रऊफ हसन

सूत्रों की माने तो दोनों देशों के लोग हर हालत में शांति बनाए रखने को संकल्पबद्ध थे. शांति को कैसे बनाए रखें, इसके लिए हम रास्ते निकालेंगे. इस बैठक में भारत के छह लोग शामिल हुए. शुक्रवार और शनिवार को हुई बैठकों में जनता की सुरक्षा, व्यापार और दोनों देशों के लोगों के बीच संबंधों बढ़ाने के तरीकों पर वार्ता हुई। इसमें युवाओं को अग्रणी भूमिका देने पर सहमति बनी।

ध्यान देने वाली बात यह है कि इन बैठकों में भविष्य की रूपरेखा तैयार करने, दोनों देशों की समान बातों को उभारने और विकास जैसे मामलों पर बातचीत हुई. ‘पुलवामा आतंकी हमले’ के बाद दोनों देशों के बीच पैदा हुई युद्ध जैसी स्थिति के बीच दोनों देशों के बीच विश्वास कायम करने को लेकर पहली बार यह कोशिश हुई है.

पुलवामा आतंकी हमले के बाद पैदा हुए तनाव को खत्म करने के लिए भारत और पाकिस्तान के बीच हुई ये पहली कोशिश...

रविवार 14 जुलाई को ‘करतारपुर कॉरीडोर परियोजना’ को लेकर गैर-सरकारी लोगों की यह चर्चा दोनों देशों के अधिकारियों की ‘अटारी-वाघा सीमा’ पर होने वाली बैठक से पहले हुई है.

loading...