भारत के साथ मिलकर संयुक्त राष्ट्र का आतंकवाद पर आया ये अहम फैसला! जिससे उड़ी आतंकियों की नींद

152

This important decision on the United Nations together with terrorism! Whereby the sleeping terrorists sleep (नई दिल्ली) : अभी-अभी ‘आतंकवाद’ के खात्मे को लेकर संयुक्त राष्ट्र और भारत बड़ा फैसला लेने वाले हैं. जिसके बाद आतंकवाद का सफाया होने तय है. सूत्रों की माने तो यूएन महासचिव ‘एंटोनियो गुटेरस’ ने कहा कि आतंक और हिंसक चरमपंथ के खिलाफ लड़ाई में भारत यूएन का अहम साझेदार है. अब आतंकवाद को फंडिंग की परेशानी से लड़ने की क्षमता में इजाफे के लिए संयुक्त राष्ट्र और भारत के बीच सहयोग बढ़ाने की योजना है.

भारत के साथ मिलकर संयुक्त राष्ट्र का आतंकवाद पर ये अहम फैसला! जिससे उड़ी आतंकियों की नींद
एंटोनियो गुटेरस

सूत्रों की माने तो गुटेरस सोमवार 1 अक्टूबर को तीन दिवसीय दौरे पर भारत पहुंचे हैं. एंटोनियो गुटेरस ने कहा कि भारत आतंकवाद के खिलाफ बहुपक्षीय कोशिशों को लेकर प्रतिबद्धता जताते हुए सहयोग कर रहा है. जानकारी के अनुसार आपको बता दें कि ‘भारत सरकार’ ने इसी साल आतंक के खिलाफ लड़ाई के लिए यूएन के काउंटर टेरेरिज्म ऑफिस को 5.5 लाख डॉलर के सहयोग का ऐलान किया. इससे यूएन के काउंटर टेरेरिज्म ऑफिस को क्षमता बढ़ाने में सहायता मिलेगी. भारत और यूएन यात्रियों की अग्रिम सूचना साझा करने की योजना भी बना रहे हैं.

Read Also : आतंकवाद को लेकर भारत ने पाकिस्तान को दिखाई औकात!

भारत के साथ मिलकर संयुक्त राष्ट्र का आतंकवाद पर ये अहम फैसला! जिससे उड़ी आतंकियों की नींद

अब हदों को पार कर रहा है आतंकवाद

इस बात को हम भलिभांति जानते हैं कि आतंकवाद अपनी हदों को पार कर रहा है. यह सभी देशों की जिम्मेदारी है कि आतंकवाद को बढ़ावा देने वाली परिस्थितियों पर नजर रखकर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें. कट्टरपंथ, हिंसक चरमपंथ और आतंकवाद का खतरा लगातार बढ़ रहा है. यह कुछ क्षेत्रों या देशों में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में धीरे-धीरे पैर पसार रहा है. 

भारत के साथ मिलकर संयुक्त राष्ट्र का आतंकवाद पर ये अहम फैसला! जिससे उड़ी आतंकियों की नींद

आतंकी सोशल मीडिया पर भी हैं सक्रिय 

यूएन महासचिव गुटेरस ने कहा है कि आज के समय में आतंकी आधुनिक तकनीक और ‘सोशल मीडिया’ पर भी सक्रिय हैं. सोशल मीडिया द्वारा आतंकियों की नियुक्ति के साथ ही चंदा भी जुटाया जा रहा है. इस स्थिति में हर देश की जिम्मेदारी बनती है कि वे हिंसा के खिलाफ लड़ें और आतंकरोधी मानकों को लागू करें.

loading...