भारतीय सेना की इस जबरदस्त कार्रवाई से आतंकियों में मची खलबली! मुठभेड़ में कई आतंकियों को किया ढेर…

263

This tremendous action of the Indian Army was a panic in the terrorists! 1 militant killed in encounter (पुलवामा) : अभी-अभी ‘जम्मू-कश्मीर’ के ‘पुलवामा’ से आतंकियों को लेकर बड़ी खबर आई है. जिसके बाद आतंकियों में हलचल पैदा हो गई है. सूत्रों की माने तो ‘भारतीय सेना’ और आतंकियों के बीच मुठभेड़ लगातार जारी है. इस मुठभेड़ में अब तक जवानों ने एक आतंकी को मार गिराया है. जबकि दो आतंकी अभी घिरे हुए हैं.

भारतीय सेना की इस जबरदस्त कार्रवाई से आतंकियों में मची खलबली! मुठभेड़ में कई आतंकियों को किया ढेर...
भारतीय सेना

सैन्य सूत्रों की माने तो पुलवामा में यह मुठभेड़ चल रही है. रेनझिपोरा इलाके में 55RR सुरक्षाबलों की टीम ने सर्च ऑपरेशन चला रखा था. तलाशी अभियान के दौरान आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर हमला कर दिया.

जैसे ही आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर हमला किया तो तुरंत इलाके को घेर लिया. जानकारी के अनुसार इस मतभेद में एक आतंकी ढेर हो गया है और दो आतंकियों को घेर रखा है. फ़िलहाल अभी दोनों तरफ से गोलीबारी जारी है.

आपको याद दीला दें कि गुरुवार को इससे पहले श्रीनगर में सुरक्षा बलों ने एक बड़ी आतंकियों के मंसूबो का नाकाम कर दिया. हैरानी की बात यह है कि सुरक्षाबलों ने सुबह 20 किलोग्राम ‘आईईडी’ बरामद की गई जो वुलर झील की और जाने वाले रास्ते पर लगाई गई थी.  इसे बाद में निष्क्रिय कर दिया गया.

भारतीय सेना की इस जबरदस्त कार्रवाई से आतंकियों में मची खलबली! मुठभेड़ में कई आतंकियों को किया ढेर...

सुरक्षा एजेंसियों की जानकारी के अनुसार वुलर से आरागाम की सड़क पर भारतीय सेना और ‘सीआरपीएफ’ की रोड ओपनिंग टीम (आरओपी) गश्त कर रही थी. इस दौरान जवानों को सड़क किनारे कुछ संदिग्ध तार दबे नजर आए. इसके बाद जवानों ने स्थिति की गंभीरता से लेते हुए ‘डाग स्क्वायड’ व फोरेंसिक टीम को बुलाया.

यह भी पढ़े : भारतीय सेना के किया ये शानदार कमाल!

सूत्रों की माने तो सुरक्षाबलों ने तलाशी करने पर 20 किलो की आईईडी को बरामद किया गया. इसे लोहे के एक बाक्स में डेटोनेटर व फ्यूज के साथ जोड़ा गया था. इसे बाद में निष्क्रिय कर दिया गया.

भारतीय सेना की इस जबरदस्त कार्रवाई से आतंकियों में मची खलबली! मुठभेड़ में कई आतंकियों को किया ढेर...

साथ ही आपको यह भी यह भी बता दें कि अगर किसी कारणवश यह धमाका हो जाता तो आसपास का लगभग एक किलोमीटर का एरिया बर्बाद हो जाता. दरअसल जहां आईईडी लगाई गई थी वह रिहायशी इलाका नहीं था. इस बात से यह साफ हो जाता है कि इसका उद्देश्य सिर्फ सुरक्षा बलों को निशाना बनाना था. आईईडी बरामद होने से एक बड़ा हादसा टल गया.

loading...