भंसाली की विवादित फिल्म पद्मावती पर हुआ सबसे बड़ा खुलासा! इस फिल्म में खिलजी को नहीं बल्कि..

623

24 नवंबर, 2017 – संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती का हर जगह विरोध हो रहा है. यह विरोध और भी अधिक बढ़ने वाला है, क्योंकि इस फिल्म को लेकर चौंकाने वाला खुलासा हुआ है.

भंसाली की विवादित फिल्म पद्मावती पर हुआ सबसे बड़ा खुलासा! इस फिल्म में खिलजी को नहीं बल्कि..
संजय लीला भंसाली

बता दें कि भंसाली ने अपने कुछ करीबी लोगों को अपनी फिल्म दिखाई है. सुदर्शन न्यूज़ के प्रमुख सुरेश चव्हाणके ने बताया कि इस फिल्म को लेकर एक ऐसे ही शख्स से उनकी बातें हुई हैं. साथ ही भंसाली और इस्लामिक जिहादियों की गहरी साजिश का भी पर्दाफाश हुआ है. यही कारण है कि भाजपा के पांच बड़े राज्यों में इस फिल्म पर रोक लगा दी गयी है.

यह फिल्म हिंदू विरोधी थी ये तो पता था लेकिन इस फिल्म में अलाउद्दीन खिलजी की जगह ब्राह्मणो को विलेन के रूप में दिखा दिया जायेगा, ये पता नहीं था. जी हां, इस फिल्म में भंसाली ने अलाउद्दीन खिलजी को तो अच्छे शाशक के रूप में पेश किया है, और दिखाया गया है कि खिलजी तो हमला ही नहीं करना चाहता था, राजपूतों की औरतों को लुटवाने के लिए ब्राह्मणो ने ही अलाउद्दीन को उकसाया था. तब जाकर खिलजी ने ऐसा कदम उठाया.

इससे भंसाली की सोच का पता चलता है. भंसाली ने दिखाया है कि, ब्राह्मण मिलकर राजपूतों की औरतों को इस्लामिक दरिंदों से लुटवाते थे. हिन्दुओ को ही विलन के रूप में भी दिखाया है. जिसका सीधा-सीधा मकसद है हिन्दुओं को जातियों में बांटकर उनकी एकता को तोड़ देना. यही कारण है कि इस्लामिक माफियाओं ने इस फिल्म में पानी की तरह पैसे को बहाया ताकि हिंदू समाज में फूट डाली जा सके.

भंसाली की विवादित फिल्म पद्मावती पर हुआ सबसे बड़ा खुलासा! इस फिल्म में खिलजी को नहीं बल्कि..

मतलब साफ़ है कि भंसाली इस फिल्म की आड़ में हिन्दू ब्राह्मणो को विलन बना रहा है, ताकि हिंदू समाज बंट सके और राजपूतों और ब्राह्मणो में फूट डालने के लिए एक सोची समझी साजिश के तहत इस फिल्म का निर्माण किया गया. इतना ही नहीं इस फिल्म में ब्राह्मणो की जमकर बुराई की गयी है और ब्राह्मणों की छवि को बिगाड़ने का प्रयास किया गया है.

इतिहास के इस्लामिक बलात्कारियों को महान और निर्दोष बताया गया है. साथ ही बताया गया है की ब्राह्मणों के द्वारा सीधे-साधे व शरीफ इस्लामिक शासको को उल्टी-सीधी बातें करके भड़काया जाता था. अब पूरा यकीन हो चुका है कि ये फिल्म हिंदू विरोधी है और इस फिल्म का मुख्य मकसद हिन्दुओं की एकता को तोड़ने ही है.

loading...