एलोवेरा एक प्राकृतिक औषधि रूप में

481

 ग्वारपाठा या एलोवेरा प्राचीनकाल से जाना जाने वाला वाला पौधा है, जिसमे सेहत के कई राज़ छुपे हैं। और औषधि की दुनिया में ये संजीवनी है| आयुर्वेद में इसे घृतकुमारी भी कहते है। इसकी करीब 200 जातियां होती हैं, लेकिन कुछ ही जातियां मानव शरीर के लिए उपयोगी हैं।aloe vera natural medicine

इसकी बारना डेंसीस नाम की जाति सबसे अच्छी है। इसमें 15 एमीनो एसिड 18 धातु, और 12 विटामिन होते हैं। इसके गूदे में आयरन, कैल्शियम, पोटैशियम और मैग्नीशियम पाया जाता है । ये एंटी-ऑक्‍सीडेंट भरपूर है जो शरीर की अधिकांश बीमारियों को ठीक करने में सहायक है।

र्दी में लाभकारी 

सर्दी जुकाम खांसी होने पर गर्म पानी में एलोवेरा जूस मिलाकर पीने से राहत मिलती है | कटे या जले हुए स्थान पर एलोवेरा जेल लगाने से जलन समाप्त होती है और निशान जल्दी मिट जाते हैं | धुप में निकलने से पहले त्वचा पर लगाने से सनबर्न का असर कम होता है |

पेट के रोग की औषधि 

एलोवेरा का जूस एक अच्छा पाचक है ये पेट के रोगों के लिए बहुत फायदेमंद है | इसकी काँटेदार पत्तियों को छीलकर उसे बीच में से काटकर गुदा निकाला जाता है और हर रोज़ सुबह खाली पेट 3-4 चम्मच एलोवेरा जूस पीने से पुराने से पुराना कब्ज़ दूर हो जाता है | शरीर में चुस्ती स्फूर्ति और शक्ति बनी रहती है | एलोवेरा ब्लड में हीमोग्लोबिन की कमी को पूरा करता है|

डायबिटीज तथा अन्य विकार का इलाज 

एलोविरा डायबिटीज, गर्भाशय के रोग, पेट की खराबी, बवासीर, आंखों के काले घेरों, मुंहासे, त्वचा की खराबी, जोड़ों का दर्द, फटी एड़ियो के लिए भी लाभप्रद हैशरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है वहीं दूसरी तरफ यह खून की कमी को दूर करता है  एलोविरा अपने एंटी बैक्टेरिया और एंटी फंगल गुण के कारण घाव को जल्दी भरता है।

एलोवेरा के सेवन करने से शरीर में ठंडक बनी रहती है, ये बलवीर्यवर्धक है, नेत्रों के लिए हितकारी है, यकृत के विकार, रक्तविकार, अंड वृद्धि, त्वचा रोग, आंत सम्बंधित रोग आदि अनेक प्रकार के विकारों को दूर करने में बहुत ही उपयोगी औषधि की तरह काम करता है |

सौन्दर्य निखार

एलोवेरा के गुदे को निकालकर बालों की जड़ों में लगाने से बाल काले, घने-लंबे एवं मजबूत हो जाते हैं, बालों को सुन्दर स्वस्थ और चमकदार बनाने के लिए इसे मेहंदी में मिला कर भी लगाया जाता है| मुहांसों को दूर कर के दाग मिटाता है और बैक्टीरिया को ख़त्म करता है|

आजकल सौन्दर्य निखार के लिए हर्बल कॉस्मेटिक प्रोडक्ट के रूप में बाजार में एलोविरा के कई रूप मिलते हैं | कम से कम जगह में भी एलोविरा आसानी से उगाया जा सकता है |  और इसे अधि पानी देने की भी आवश्यकता नहीं होती |

एलोविरा के कण-कण में सुंदर एवं स्वस्थ रहने के कई-कई राज छुपे पड़े हैं। बस, जरूरत है तो इसके गुणों को पहचान कर इस्तेमाल करने की जिस से जीवन भर स्वस्थ और सुन्दर रहे सकें |

 

loading...