मुगलों के खिलाफ राष्ट्रहित में लड़ने वाली छत्रपति शिवाजी की बहू महारानी ताराबाई की समाधि का बुरा हाल

16

नई दिल्ली : भारत के वीर सपूतों में से एक छत्रपति शिवाजी महाराज की बहू और उनके बेटे राजाराम की पत्नी महारानी ताराबाई की समाधि जीर्णशीर्ण हालत में है। सन 1700-1707 में मुगलों के खिलाफ मराठा लड़ाई का नेतृत्व करने वाली महारानी ताराबाई मोहिते की समाधि की तरफ ध्यान लेखिका मानोशी सिन्हा ने एक ट्वीट के माध्यम से यह जानकारी दी है।

मुगलों के खिलाफ राष्ट्रहित में लड़ने वाली छत्रपति शिवाजी की बहू महारानी ताराबाई की समाधि का बुरा हाल
मुगलों के खिलाफ कई लड़ाइयों में नेतृत्व करने वालीं ताराबाई की जीर्णशीर्ण समाधि

ट्वीट के जरिए उन्होंने यह भी सूचित किया कि अब एक संगठन सरकार के सहयोग से महारानी ताराबाई की समाधि के संरक्षण का दायित्व संभालेगी। लेखिका ने समाधि के मौजूदा हाल पर अफ़सोस जाहिर करते हुए कहा कि जहाँ एक तरफ आक्रांताओं के मकबरों का खूब ख्याल रखा गया है वहीं आजादी के 72 वर्षों बाद भी हिन्दू धर्म संस्कृति के लिए लड़ने वाली ताराबाई की समाधि को कोई पूछने वाला नहीं।

ताराबाई की लड़ाइयों और उनके महत्त्व को समझने के लिए इतिहासकार जदुनाथ सरकार की उन पर की गयी एक टिप्पणी ही पर्याप्त है। इसमें वे लिखते हैं ,”1700 -1707 के बीच महाराष्ट्र में सर्वप्रमुख प्रेरक शक्ति कोई मंत्री न होकर महारानी ताराबाई ही थीं जिन्होंने अपनी कुशल प्रशासनिक क्षमता तथा मजबूत चारित्रिक क्षमता के बल पर उस कठिन समय पर राष्ट्र की रक्षा की।”

इतना ही नहीं ताराबाई ने औरंगजेब को बराबर की टक्कर दी और उन्होंने 7 सालों तक अकेले दम पर मुगलों को भी टक्कर दी व मराठा साम्राज्य को बनाये रखने के लिए बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

loading...