दिल्ली विधानसभा में टीपू सुल्तान की तस्वीर को लेकर हुआ विवाद और उसके बाद भाजपा ने कर डाली ये…

151

नई दिल्ली : गणतंत्र दिवस” के मौके पर दिल्ली विधानसभा में आने वाले लोगों को देश के क्रांतिकारियों के बारे में बताकर उनसे रूबरू करने का उद्देश्य किया है, जिसके लिए ‘दिल्ली विधानसभा’ में स्वतंत्रता सेनानियों और क्रांतिकारियों की तस्वीरें लगाई गई हैं. आपको बता दें कि इन सभी तस्वीरों का अनावरण 26 जनवरी को किया जाना है. परंतु इससे पहले एक नया विवाद खड़ा हो गया है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आपको बता दें कि यह विवाद किसी और बात को लेकर नहीं बल्कि क्रांतिकारियों में ‘टीपू सुल्तान’ को शामिल करने को लेकर हुआ है. जिससे देश में खलबली मच गई है. आपको बता दें कि दिल्ली विधानसभा में ‘तात्या टोपे’ से लेकर ‘लक्ष्मीबाई’ और ‘नानाराव पेशवा’ से लेकर ‘बिरसा मुंडा’ तक सभी क्रांतिकारियों की तस्वीरें लगाई हैं. ‘भाजपा’ ने विधानसभा में लगी कुल 70 तस्वीरों में से केवल एक (टीपू सुल्तान) तस्वीर को लेकर दिल्ली सरकार पर हमला कर दिया है.

टीपू सुल्तान

भाजपा नेता ‘ओपी शर्मा’ ने टीपू सुल्तान को लेकर कहा है कि वह देश की जनता की भावनाओं के साथ खेलने वाला दरिंदा है. जिसने लोगों को बहुत क्षति पहुंचाई है. साथ ही उन्होंने ‘अरविन्द केजरीवाल’ को यह भी कहा है कि जब उनको इस बात की जानकारी है कि टीपू सुल्तान की तस्वीर विवादित है तो उन्होंने यह तस्वीर क्यों लगाई है. इसके साथ ही ओपी शर्मा ने कहा है कि टीपू सुल्तान का कद इतना नहीं है कि उसको भगत सिंह, रानी लक्ष्मीबाई के साथ लगाया जाये. उन्होंने इस मामले को विधानसभा में उठाने की बात भी कही है. उधर, दिल्ली विधानसभा के अध्यक्ष ‘रामनिवास गोयल’ ने कहा है कि इस मौके पर टीपू सुल्तान की तस्वीर लगाना हमारे लिए बड़े गर्व की बात है, परंतु इसको लेकर भाजपा द्वारा किये जा रहे विरोध से यह ज्ञात होता है कि भाजपा की सोच कितनी छोटी है.

अरविन्द केजरीवाल

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आपको बता देते हैं कि टीपू सुल्तान को लेकर भाजपा का यह पहला विरोध नहीं है, इससे पहले भी कर्नाटक में टीपू सुल्तान की जयंती को लेकर भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने आ चुके हैं. आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ‘योगी आदित्यनाथ’ भी कर्नाटक के मुख्यमंत्री ‘सिद्घारमैया’ पर टीपू सुल्तान को लेकर हमलावर रहे हैं.

Loading...