त्रिवेणी : देश के 15 दिग्गज चित्रकारों की एक साथ लगी प्रदर्शनी! कला प्रेमियों का उमड़ा सैलाब

963

त्रिवेणी : आत्माभिव्यक्ति मानव की प्राकृतिक प्रवृत्ति है. अपने अंदर के भाव प्रकट किए बिना वह रह नहीं सकता. और, भावों का आधार होता है, मनुष्य का परिवेश. चित्रकला कला के सर्वाधिक कोमल रूपों में से एक है जो रेखा और वर्ण के माध्यम से विचारों तथा भावों को अभिव्यक्ति देती है और एक चित्रकार अपने इन्हीं विचारों व भावों को अपनी चित्र रचना के माध्यम से दुनिया से सामने प्रस्तुत करता है.

त्रिवेणी : देश के 15 दिग्गज चित्रकारों की एक साथ लगी प्रदर्शनी! कला प्रेमियों का उमड़ा सैलाब

कला केंद्र त्रिवेणी में 15 मशहूर कलाकारों की एक साथ चित्र प्रदर्शनी लगी हुई है और इस प्रदर्शनी में लगे रचना चित्रों को खूब सराहा जा रहा है. यही कारण है कि भारी तादाद में लोग इस प्रदर्शनी को देखने आ रहे हैं.

इस प्रदर्शनी में एम. एफ. हुसैन, विजेंद्र शर्मा, राजीव, माधुरी भाधुरी, बिमल दास, जोगेन, थोटा वैकुण्ठम, भावेश विनोद शर्मा, बसंत, सोमनाथ सिंह, भोला राणा, संजू जैन, परेश ने अपनी चित्र रचनाएं प्रदर्शित की हैं.

त्रिवेणी : देश के 15 दिग्गज चित्रकारों की एक साथ लगी प्रदर्शनी! कला प्रेमियों का उमड़ा सैलाब

इस प्रदर्शनी में मझे हुए चित्रकार विजेंद्र शर्मा जी ने अलग-अलग मुखौटों वाली अपनी एक चित्र रचना पेश की है, और बताया है कि इन्सान किस तरह से चेहरे बदलता रहता है. विजेंद्र जी ने एक साधक को बहुत सुन्दर ढंग से अपनी चित्र रचना में दिखाया है और पूछने पर उन्होंने बताया कि साधक फूल और कांटो से जब मुक्त हो जाता है तो उसको अपने लक्ष्य की प्राप्ति हो जाती है.

त्रिवेणी : देश के 15 दिग्गज चित्रकारों की एक साथ लगी प्रदर्शनी! कला प्रेमियों का उमड़ा सैलाब

विजेंद्र जी की पेंटिंग राष्ट्रपति भवन में लगी हुई है और देश की नामी हस्तियाँ जैसे – रतन टाटा, बिरला, मुकेश अम्बानी, डाबर आदि के पास इनकी पेंटिंग्स मौजूद हैं.

इस प्रदर्शनी में वरिष्ठ और मशहूर चित्रकार एम. एफ. हुसैन जी की चित्र रचना भी शामिल की गयी है, जिसमें महाभारत के दृश्य को चित्रों के माध्यम से बहुत शानदार ढंग से दर्शाया हुआ है. 80 साल के चित्रकार ने दुनिया में घुले रंगों को अपनी चित्र रचना में उकेरा है, पद्म भूषण प्राप्त जोगेन ने भी अपने हुनर का बेहतर प्रदर्शन किया है. विनोद शर्मा ने प्रकृति का सुन्दर चित्रण प्रस्तुत किया है. माधुरी भादुरी ओइल पेंट के माध्यम से आकाश, पानी, सूर्य और पहाड़ों को बहुत ही अलग तरीके से अपनी चित्रकला में दिखाया है.

त्रिवेणी : देश के 15 दिग्गज चित्रकारों की एक साथ लगी प्रदर्शनी! कला प्रेमियों का उमड़ा सैलाब

कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि इस प्रदर्शनी का हर एक व्यक्ति लुत्फ उठा सकता है. अलग-अलग कलाकारों की यह मिश्रित प्रदर्शनी कला केंद्र त्रिवेणी में 23 मई तक है और सुबह 11 बजे से सायं 8 बजे तक देखी जा सकती है. बता दें कि इन नामचीन कलाकारों की चित्र प्रदर्शनी देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी लग चुकी हैं और दुनियाभर में खूब पसंद की जा चुकी हैं.  

loading...