भारतीय नौसेना के लिए मोदी सरकार के इस प्रयास के बाद अमेरिका ने इस विध्वंसक हथियार के लिए दी मंजूरी! जिसके बाद चीन-पाक में पसरा मातम…

838

After the Modi government’s efforts for the Indian Navy the US has approved for this destructive weapon (नई दिल्ली) : देश की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए ‘मोदी सरकार’ ने बड़ा फैसला लिया है. जिसके बाद पाकिस्तान और चीन में सनसनी फैल गई है. सूत्रों की माने तो अमेरिका ने 2.4 अरब डॉलर की अनुमानित कीमत पर भारत को 24 बहुउपयोगी ‘एमएच 60 रोमियो सी हॉक हेलीकॉप्टर’ की बिक्री को अनुमति दे दी है.

भारतीय नौसेना के लिए मोदी सरकार के प्रयास के बाद अमेरिका ने इस विध्वंसक हथियार के लिए दी मंजूरी! जिसके बाद चीन-पाक में पसरा मातम...
नरेंद्र मोदी

इस बात की जानकारी अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने दी है. भारत को पिछले एक दशक से ज्यादा समय से इन हंटर हेलीकॉप्टर की आवश्यकता थी.

सूत्रों की माने तो ‘लॉकहीड मार्टिन’ द्वारा निर्मित ‘एमएच 60 रोमियो सी हॉक हेलीकॉप्टर’ पनडुब्बियों और पोतों पर अचूक निशाना साधने में दमखम रखता है. ये हेलीकॉप्टर समुद्र में तलाश एवं बचाव कार्यों में भी उपयोगी हैं.

यह भी पढ़े : देश की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मोदी सरकार ने रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर लिया ये जबरदस्त फैसला…

मंगलवार 2 अप्रैल को ट्रंप सरकार ने कांग्रेस में अधिसूचित किया कि उसने 24 एमएच-60आर बहु उपयोगी हेलीकॉप्टरों की बिक्री को अनुमति दी है. ये हेलीकॉप्टर भारतीय रक्षा बलों को सतह रोधी और पनडुब्बी रोधी युद्ध मिशन को सफलता से अंजाम देने में सक्षम बनाएंगे.

भारतीय नौसेना के लिए मोदी सरकार के प्रयास के बाद अमेरिका ने इस विध्वंसक हथियार के लिए दी मंजूरी! जिसके बाद चीन-पाक में पसरा मातम...
एमएच 60 रोमियो हेलीकॉप्टर

अमेरीकी विदेश मंत्रालय ने अपनी अधिसूचना में कांग्रेस को जानकारी दी कि इस प्रस्तावित बिक्री के कारण भारत और अमेरिका के सामरिक संबंधों को मजबूती आएगी, जिससे अमेरिका की विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा को मजबूत बनाने में सहायता मिलेगी.

इसके आगे उन्होंने कहा कि इन हेलीकॉप्टरों की अनुमानित कीमत 2.4 अरब डॉलर होगी. इस बिक्री से उस बड़े रक्षा साझीदार की सुरक्षा स्थिति सुधरेगी. जो हिन्द प्रशांत और दक्षिण एशिया क्षेत्र में राजनीतिक स्थिरता, शांति एवं आर्थिक प्रगति के लिए महत्वपूर्ण कारक रहा है. 

अधिसूचना के अनुसार इस बढ़ी क्षमता से क्षेत्रीय खतरों से निपटने में भारत को मदद मिलेगी और उसकी गृह सुरक्षा मजबूत होगी। भारत को इन हेलीकॉप्टरों को अपने सशस्त्र बलों में शामिल करने में कोई दिक्कत नहीं होगी.

भारतीय नौसेना के लिए मोदी सरकार के प्रयास के बाद अमेरिका ने इस विध्वंसक हथियार के लिए दी मंजूरी! जिसके बाद चीन-पाक में पसरा मातम...
डोनाल्ड ट्रंप

इसके अलावा कहा गया कि इस प्रस्तावित बिक्री के कारण इलाके में मूल सैन्य संतुलन पर कोई प्रभाव नहीं होगा. ध्यान देने वाली बात यह है कि पूरे विश्व में इन हेलीकॉप्टरों को सबसे अत्याधुनिक समुद्री हेलीकॉप्टर माना जाता है. जो अब ‘भारतीय नौसेना’ की मारक क्षमताओं को बढ़ाएंगे. विशेषज्ञों की माने तो ‘हिन्द महासागर’ में चीन के आक्रामक व्यवहार को ध्यान में रखते हुए भारत के लिए ये हेलीकॉप्टर अति आवश्यक हैं.

loading...