फिल्म पद्मावत को लेकर हुई हिंसा के बाद करणी सेना ने भंसाली के सामने रखी ये चौकाने वाली शर्त..

184

28 जनवरी 2018 : एक बयान मे फिर से श्रीराजपूत करणी सेना द्वारा पद्मावत फिल्म का विरोध करने के लिए कहा है. इसके साथ ही करणी सेना ने पद्मावत के निर्देशक संजय लीला भंसाली के सामने एक शर्त भी रखी है.

 

फिल्म पद्मावत को लेकर हुई हिंसा के बाद करणी सेना ने भंसाली के सामने रखी ये चौकाने वाली शर्त..
लोकेंद्र सिंह काल्वी image source

हम आपको बता दे कि करणी सेना ने शनिवार को एक बयान मे कहा कि यदि भंसाली उन्हें ‘पद्मावत’ फिल्म के अधिकार सौंपने दें. तो वह इस फिल्म पर हुए पूरे खर्च का भुगतान करने के लिए तैयार है. बता दे कि इसके साथ ही करणी सेना ने अपने बयान मे कहा है कि देश में पद्मावत के विरोध के दौरान हुईं हिंसक घटनाओं में करणी सेना का कोई भी सदस्य शामिल नहीं था.

फिल्म पद्मावत को लेकर हुई हिंसा के बाद करणी सेना ने भंसाली के सामने रखी ये चौकाने वाली शर्त..
गुडगाँव बस हादसा image source

करणी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह काल्वी ने प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि स्कूल बस पर जो हमला हुआ था उसमे उनके सदस्यों या किसी भी अन्य क्षत्रिय संगठन का कोई हाथ नहीं है. गौरतलब है कि गुड़गांव में बुधवार को 20-25 बच्चों को ले जा रही एक स्कूल बस पर एक भीड़ ने जोरदार हमला किया. बता दे कि फिल्म का विरोध कर रहे हिंसक प्रदर्शनकारियों ने वाहनों में आग भी लगा दी और बहुत सार्वजनिक संपत्ति का नुकसान किया गया था.

फिल्म पद्मावत को लेकर हुई हिंसा के बाद करणी सेना ने भंसाली के सामने रखी ये चौकाने वाली शर्त..
लोकेंद्र सिंह काल्वी image source

काल्वी का कहना है कि किसी भी प्रकार की जांच करवा ली जाए हम तैयार है तो चाहे वह सीबीआई जांच हो या न्यायिक जांच, उनका कहना है कि ऐसा करने के बारे में कोई राजपूत सोच भी नहीं सकता. यदि जहाँ हमले हुए है हम वहां मौजूद होते तो हम उन हमलो के खिलाफ आवाज उठाते और वो हमले होने भी नहीं देते.

फिल्म पद्मावत को लेकर हुई हिंसा के बाद करणी सेना ने भंसाली के सामने रखी ये चौकाने वाली शर्त..
अहमदाबाद मे पद्मावत का विरोध प्रदर्शन image source

उनका कहना है कि अहमदाबाद में जो हिंसा हुई है उसमें भी उनके संगठन के सदस्यों का कोई हाथ नहीं है. अहमदाबाद में मॉलों के बाहर जो वाहनों में तोड़फोड़ की गई थी. उन्होंने कहा कि इन सब हमलों के पीछे फिल्म से जुड़े हुए लोगों का ही हाथ है. करणी सेना के सदस्यों ने ऐसा कुछ नहीं किया है.

काल्वी का कहना है कि गणतंत्र दिवस के अवसर पर हमने कोई प्रदर्शन नहीं किया क्युकि हम दिल से अपने राष्ट्र का सम्मान करते हैं. और हम उसे कभी हानि नहीं पहुचना चाहेंगे. लेकिन सिनेमाघरों से जब तक इस फिल्म को उतारा नहीं जायेगा. तब तक हमारा प्रदर्शन इसी तरह जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि यदि भंसाली हमें इस फिल्म का अधिकार सौंप दे तो हम इस फिल्म पर लगा जितना पैसा है. अपने समुदाय से  इकट्ठा कर उन्हें देने के लिए तैयार हैं. हम फिल्म के रील का जौहर करेंगे.

loading...