लोकसभा चुनाव से पहले सपा के इस दिग्गज नेता ने थामा भाजपा का दामन! जिससे नोएडा में सपा को लगेगा ये करारा झटका…

67

Before the Lok Sabha elections SP leader Vijender Singh Bhati joined the BJP! Akhilesh Yadav’s problems increased (नोएडा) : इस बात को आप भलीभांति जानते हैं कि 2019 के ‘लोकसभा चुनाव’ के लिए मतदान एक-दो दिनों में होने वाले हैं. मतदान से पहले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष ‘अखिलेश यादव’ को जोरदार झटका लगा है. जिसके बाद उनकी मुश्किलें और भी अधिक बढ़ने वाली हैं.

लोकसभा चुनाव से पहले सपा के इस दिग्गज नेता ने थामा भाजपा का दामन! जिससे नोएडा में सपा को लगेगा ये करारा झटका...
अखिलेश यादव

सूत्रों की माने तो यूपी गौतमबुद्धनगर जिल के दिग्गज सपा नेता और पूर्व मंत्री ‘नरेंद्र भाटी’ के छोटे भाई ‘विजेंद्र सिंह भाटी’ सपा का साथ छोड़ भाजपा का दामन थाम लिया है. आपको याद दिला दें कि वर्ष 2014 के आम चुनाव में नरेंद्र भाटी गौतम बुद्ध नगर सीट से चुनाव लड़ चुके हैं और थ उन्होंने भाजपा उम्मीदवार ‘महेश शर्मा’ को टक्कर दी थी और दूसरे स्थान हासिल किया था, जबकि बाकी उम्मीदवारों की जमानत तक जब्त हो गई थी.

मंगलवार 9 अप्रैल को चुनाव प्रचार के दौरान विजेंद्र सिंह भाटी भाजपा प्रत्याशी महेश शर्मा के मंच पर शामिल हुए और वहां भाजपा का दामन थाम लिया. आपको मालूम हो कि विजेंद्र भाटी जिला पंचायत गौतम बुद्ध नगर के चेयरमैन भी रह चुके हैं.

भाजपा में शामिल होने के बाद उन्होंने अपने बयान में कहा कि पूर्व मंत्री नरेंद्र भाटी और उनकी बेटे ‘आशीष भाटी’ भी बहुत जल्द भाजपा में शामिल होने वाले हैं. 

लोकसभा चुनाव से पहले सपा के इस दिग्गज नेता ने थामा भाजपा का दामन! जिससे नोएडा में सपा को लगेगा ये करारा झटका...
महेश शर्मा

ध्यान देने वाली बात यह है कि पिछले 30 वर्षों से ‘भाटी परिवार’ सपा के लिए कार्य कर रहे हैं. इस स्थिति में भाटी परिवार के सदस्यों का भाजपा में शामिल होने से सपा के अस्तित्व पर ही सवाल खड़ा हो जाएगा.

आपको इस बात से अवगत करा सेन कि कुछ साल पहले आइएएस अधिकारी ‘दुर्गा शक्ति नागपाल’ को निलंबित कराने और अवैध खनन कराने वालों से जुड़े रहने के आरोपों के चलते ‘नरेंद्र भाटी’ चर्चा में आए थे. उस समय राज्य में सपा सरकार थी, जिससे नरेंद्र भाटी का नोएडा में जोरदार रुतबा रहता था. वह विधायक रहें या नहीं, परंतु उनकी ताकत मंत्री से कम नहीं रहती थी. 

यह भी पढ़े : मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव को लगा ये जोरदार झटका!

नरेंद्र भाटी दादरी तहसील के बोड़ाकी गांव के निवासी हैं. उनके पिता का नाम ‘प्रेम सिंह’ है, जो एक किसान थे. पहले उन्होंने बैनामा लेखक के रूप में कैरियर शुरू किया था. पांच साल दादरी तहसील में बैनामा लेखक के रूप में कार्य किया और वर्ष 1982 में दादरी ब्लॉक प्रमुख बने. दूसरी बार भी वह ब्लॉक के प्रमुख रहे. दो बार ब्लॉक प्रमुख रहने के बाद उन्होंने अपना कार्य क्षेत्र सिकंदराबाद को चुना.

लोकसभा चुनाव से पहले सपा के इस दिग्गज नेता ने थामा भाजपा का दामन! जिससे नोएडा में सपा को लगेगा ये करारा झटका...
नरेंद्र भाटी

सूत्रों की माने तो नरेद्र भाटी ‘जनता दल’ के टिकट पर यहां से 1990 और 1991 में विधायक चुने गए. वर्ष 1996 में सपा के टिकट पर चुनाव जीतकर तीसरी बार भी सिकंदराबाद से विधायक चुने गए. तब से अब तक वह सपा से जुडे़ रहे हैं. आपको याद हो कि 2009 और 2014 दोनों बार गौतम बुद्ध नगर की लोकसभा सीट से सपा ने उनको टिकट दिया, परंतु वह दोनों बार हार गए थे.

loading...