बुलंदशहर हिंसा : गोकशी के मुद्दे को लेकर और भी भयानक हो सकते हैं उत्तर प्रदेश हालात! खुफिया विभाग ने दी ये जानकारी

448

Bulandshahr Violence: Gokshi’s issue can be even more horrific, Uttar Pradesh situation! Intelligence Department gave this information (बुलंदशहर) : “उत्तर प्रदेश” के ‘बुलंदशहर’ से एक चुनक देने वाली खबर सामने आई है. जिसके बाद राज्य समेत देश में हलचल पैदा हो गई है. सूत्रों की माने तो ‘गोकाशी’ की घटना के बाद वेस्ट यूपी में कभी भी हालात और भी बिगड़ सकते हैं. यहां गोकशी की वारदात के बाद सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बन जाती है. मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर और बागपत समेत कई जनपदों में माहौल खराब करने की साजिश भी हो चुकी है.

बुलंदशहर हिंसा : गोकशी के मुद्दे को लेकर और भी भयानक हो सकते हैं उत्तर प्रदेश हालात! खुफिया विभाग ने दी ये जानकारी

सूत्रों की माने तो खुफिया विभाग कई बार शासन को इनपुट भेज चुका कि वेस्ट यूपी में जिलों में गोकशी जैसे मामलों से बवाल कराने की साजिश रची जा रही है. इसको लेकर पुलिस प्रशासन अलर्ट है. इसके बावजूद बुलंदशहर जिले में बवाल हो गया.

ध्यान देने वाली बात यह है कि गोकशी पर सांप्रदायिक माहौल बनाकर वेस्ट यूपी को हिंसा फैलाने की योजना है. 2019 लोकसभा चुनाव से पहले वेस्ट यूपी में बवाल हो सकता है, यहां मामला पूरे राज्य में हिंसा फैला सकती है. इसको लेकर खुफिया विभाग शासन को इनपुट कई बार भेज चुका है.

आपको बता दें कि इस हिंसा के दौरान पुलिस पर गोलीबारी तक हो चुकी है. मेरठ में खासतौर पर लिसाड़ीगेट, ब्रह्मपुरी, सरधना, सरूरपुर, किठौर, भावनपुर,जानी, इंचौली, दौराला, खरखौदा और मुंडाली में गोकशी सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बनवा चुकी है.

बुलंदशहर हिंसा : गोकशी के मुद्दे को लेकर और भी भयानक हो सकते हैं उत्तर प्रदेश हालात! खुफिया विभाग ने दी ये जानकारी

सूत्रों की माने तो बुलंदशहर हिंसा में शहीद हुए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार के बेटे बेहद दुखी और गुस्से में हैं. उनके बेटे का कहना है कि जिस पिता ने उन्हें ऐसा इंसान बनने की सलाह दी जो धर्म के नाम पर न लड़े, उस पिता आज ‘हिन्दू-मुस्लिम’ लड़ाई में ही मौत हो गई.

सूत्रों की माने तो सोमवार 3 दिसंबर को बुलंदशहर के स्याना तहसील के गांव महाव में गोवंश अवशेष मिलने पर पुलिस, हिन्दूवादी संगठनों और ग्रामीणों में जमकर बवाल हुआ. गुस्साए ग्रामीणों ने चिंगरावठी चौकी के पास सड़क पर जाम लगा दिया. स्याना थाने के कोतवाल इंस्पेक्टर ‘सुबोध कुमार सिंह’ ने मौके पर पहुंचकर जाम खुलवाने की कोशिश की तो ग्रामीणों ने पथराव कर दिया.

बुलंदशहर हिंसा : गोकशी के मुद्दे को लेकर और भी भयानक हो सकते हैं उत्तर प्रदेश हालात! खुफिया विभाग ने दी ये जानकारी
सुबोध कुमार सिंह

आपको बता दें कि घटनास्थल पर मौजूद भीड़ ने चौकी के बाहर खड़े पुलिस के दर्जनों वाहनों में आग लगा दी. चौकी में घुसकर तोड़फोड़ की और सामान को आग लगा दी. हालात बेकाबू होते देख पुलिस ने हवाई फायरिंग की. इस पर ग्रामीणों ने सुबोध कुमार पर हमला बोल दिया. घटना में गोली लगने से कोतवाल सुबोध और एक युवक सुमित की मौत हो गई.

यह भी पढ़े : एससी-एसटी एक्ट को लेकर हुई हिंसा पर इंटेलीजेंस रिपोर्ट का दावा!

मंगलवार सुबह पुलिस लाइन में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार को श्रद्धांजलि दी गई. इंस्पेक्टर के बेटे अभिषेक ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि, मेरे पिता चाहते थे कि मैं एक अच्छा नागरिक बनूं जो समाज में धर्म के नाम पर हिंसा नहीं फैलाता. आज मेरे पिता ने ‘हिन्दू-मुस्लिम’ के नाम पर अपनी जान गंवा दी अब कल किसके पिता अपनी जान गंवाएंगे?

बुलंदशहर हिंसा : गोकशी के मुद्दे को लेकर और भी भयानक हो सकते हैं उत्तर प्रदेश हालात! खुफिया विभाग ने दी ये जानकारी

इस मामले में सात लोगो के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज

पुलिस ने गोकशी के मामले में नयाबांस गांव निवासी योगेशराज की तहरीर पर गांव के सात लोगों सुदैफ चौधरी, इलयास, शराफत, अनस, साजिद, परवेज और सरफुद्दीन के खिलाफ गोवध अधिनियम की धारा के तहत मुकदमा दर्ज किया है.

सुबोध कुमार मजिस्ट्रेटी जांच में थे गवाह 

ग्रामीणों के अनुसार 28 सितंबर 2015 को बिसाहड़ा गांव मे इकलाख की भीड़ ने पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी. इस दौरान मौके पर पर पाया गया मांस और फ्रिज में रखे मांस को अपनी देख रेख में पहले जिला पशु केंद्र और बाद में मथुरा स्थित जांच लैब में भेजा था. इस दौरान मजिस्ट्रेटी जांच में वह गवाह भी थे.

इस घटना में सुबोध कुमार के शहीद हो जाने से ‘इकलाख मामले’ में झटका लगा है. इकलाख के घर से मिले मांस को उन्होंने ही बरामद किया था। उनकी मौत का बिसाहड़ा के लोगों को बेहद दुख है।- संजय राणा, बिसाहड़ा निवासी

बुलंदशहर हिंसा : गोकशी के मुद्दे को लेकर और भी भयानक हो सकते हैं उत्तर प्रदेश हालात! खुफिया विभाग ने दी ये जानकारी

खुफिया इनपुट बेहद खतरनाक

पुलिस सूत्रों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार ‘खुफिया विभाग’ का इनपुट बेहद खतरनाक हैं. मेरठ, बुलंदशहर और मुजफ्फरनगर में सर्वाधिक गोकशी की घटना हुई हैं। इतना नहीं गोतस्कर पुलिस पर सीधा हमला बोलते हैं। कई बार पुलिस की जान तक बची है. ध्यान देने वाली बात यह है कि वेस्ट यूपी में सबसे ज्यादा खतरनाक गोकशी की घटनाएं है. जिसको लेकर माहौल खराब कराया जा सकता है.

loading...