कांग्रेस के शपथ ग्रहण समारोह को विपक्षी दलों ने दिया ये जोरदार झटका! जिससे पार्टी में पसरा मातम…

371

Congress’s swearing-in ceremony was strongly shocked by opposition parties (नई दिल्‍ली) : इस बात को हम भलीभांति जानते हैं कांग्रेस को राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्‍तीसगढ़ में ‘विधानसभा चुनाव’ में सफलता मिली है. आज 17 दिसंबर को कांग्रेस के खेमे में आज जश्‍न का माहौल है. इसका बड़ा कारन यह है कि राजस्‍थान, मध्‍यप्रदेश और छत्‍तीसगढ़ में आज नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कमल नाथ और भूपेश बघेल शपथ ग्रहण करने जा रहे हैं.

कांग्रेस के शपथ ग्रहण समारोह को विपक्षी दलों ने दिया ये जोरदार झटका! जिससे पार्टी में पसरा मातम...

सूत्रों की माने तो शपथ ग्रहण समारोह के लिए सभी तैयारियां लगभग पूरी हो गई हैं. कांग्रेस ने तीन राज्यों में मुख्यमंत्री पद के शपथ ग्रहण समारोह के लिए 25 पार्टियों को निमंत्रण भेजा है. इसके माध्यम से कांग्रेस विपक्षी एकता का बल दिखाने का प्रयास कर रही है. इस स्थिति में शपथ ग्रहण समारोह में कौन-कौन आ रहा है, इससे ज्‍यादा लोगों की नजरें इस पर टिकी हुईं हैं कि कांग्रेस के इस भव्‍य शपथ ग्रहण समारोह में कौन-कौन नहीं आ रहा है? 

यह भी पढ़े : राफेल सौदे को लेकर वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस पर साधा निशाना!

चौंका देने वाली खबर यह है कि 17 दिसंबर को कांग्रेस पार्टी के राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों के होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में ‘बहुजन समाज पार्टी’ (बसपा) सुप्रीमो ‘मायावती’ और ‘समाजवादी पार्टी’ (सपा) के अध्यक्ष ‘अखिलेश यादव’ समारोह ने शामिल नहीं होंगे. इसके अलावा ‘तृणमूल कांग्रेस’ अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ‘ममता बनर्जी’ शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं होंगी. इससे पहले इन सभी के आने की उम्मीद जताई जा रही थी. 

कांग्रेस के शपथ ग्रहण समारोह को विपक्षी दलों ने दिया ये जोरदार झटका! जिससे पार्टी में पसरा मातम...

इस स्थिति में साफ संकेत मिल रहा है कि विपक्षी एकता का जो ताना-बाना कांग्रेस अध्‍यक्ष ‘राहुल गांधी’ बुन रहे हैं, वो बिखरता हुआ दिखाई दे रहा है. इस शपथ ग्रहण समारोह में दो पूर्व प्रधानमंत्रियों सहित दर्जनों विपक्षी नेता शामिल होंगे.

2019 के ‘लोकसभा चुनाव’ के लिए प्रधानमंत्री ‘नरेंद्र मोदी’ के खिलाफ विपक्षी मोर्चा मजबूत करने में जुटी कांग्रेस पार्टी ने अपने मुख्यमंत्रियों का शपथ ग्रहण समारोह बिलकुल कर्नाटक की तर्ज पर कार्यक्रम करने की योजना बनाई है. 

आपको याद दिला दें कि ‘एचडी कुमारस्वामी’ ने जब कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद के तौर पर शपथ ग्रहण की थी तो उसमें यूपीए के तमाम सहयोगियों के अलावा कई अन्य विपक्षी नेता भी एक मंच पर नजर आए थे. ठीक उसी तरह सोमवार 17 दिसंबर को शपथ ग्रहण में पूर्व पीएम ‘डॉ. मनमोहन सिंह’, ‘एचडी देवेगौडा’, राहुल गांधी, मुख्यमंत्री ‘एन चंद्रबाबू नायडू’ और एचडी कुमार स्वामी सहित कई दूसरे कद्दावर नेता शामिल होने वाले हैं.  

कांग्रेस के शपथ ग्रहण समारोह को विपक्षी दलों ने दिया ये जोरदार झटका! जिससे पार्टी में पसरा मातम...
नरेंद्र मोदी

सूत्रों की माने तो तीनों राज्यों के मुख्यमंत्री पद के लिए हो रहे शपथ ग्रहण समारोह को 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए किया जा रहा शक्ति-प्रदर्शन के तौर पर देखा जा रहा है. परंतु अब विपक्षी एकता टूटती नजर आ रही है. राहुल गांधी को विपक्ष को एकजुट करने के लिए अब किसी नई रणनीति पर जल्‍द ही काम करना पड़ेगा, क्‍योंकि लोकसभा चुनाव में अब ज्‍यादा समय नहीं बचा है.

loading...