SC का पटाखों पर बैन लगाने के बाद सहवाग ने SC को ठेंगा दिखाते हुए दिल्लीवासियों को दी ये सलाह

157

9 अक्टूबर, 2017 – सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों को प्रदूषण का कारण बताते हुए दिल्ली में बैन कर दिया है. इसके बाद क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने सुप्रीम कोर्ट पर करारा तमाचा मारा है.

SC का पटाखों पर बैन लगाने के बाद सहवाग ने SC को ठेंगा दिखाते हुए दिल्लीवासियों को दी ये सलाह
वीरेंद्र सहवाग

दिवाली आने वाली है तो अब सुप्रीम कोर्ट को अब प्रदूषण नजर आने लगा है इसी के चलते दिल्ली में पटाखों पर बैन लगाया है. क्यूंकि 1 नवंबर के बाद तो आप पटाखें खरीद और फोड़ सकते हो. नए साल पर पटाखे फोड़ सकते हैं, 1 नवम्बर के बाद भी फोड़ सकते हैं लेकिन सिर्फ दिवाली पर नहीं फोड़ सकते.
आपको बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब दिल्ली में दीपावली पर पटाखों पर रोक लगा दी गयी हो.  350 साल पहले औरंगजेब ने दिल्ली में 1667 में पटाखों पर रोक लगा दी थी. अगर प्रदुषण की इतनी ही चिंता है तो नए साल पर भी पटाखों पर बैन लगाया जाता, साल भर होने वाली पार्टियों में भी पटाखों पर बैन लगाया जाता.
लेकिन बैन सिर्फ दीपावली पर ही लगाया गया है, इस जजों की मंशा साफ़ होती है कि वो हिन्दुओं के त्योहारों को लेकर किस तरह की सोच रखते हैं. अब दिल्ली के ही क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने इस फैसले के बाद अपना गजब का बयान दिया है.

SC का पटाखों पर बैन लगाने के बाद सहवाग ने SC को ठेंगा दिखाते हुए दिल्लीवासियों को दी ये सलाह
सर्वोच्च न्यायालय

वीरेंद्र सहवाग ने SC को ठेंगा दिखाते हुए कहा कि इस साल दीपावली को आप और भी “एक्स्ट्रा धूम धाम” से मनाइये. आपको बता दें की सुप्रीम कोर्ट तो 1947 के बाद से बना है पर दीपावली पर पटाखों का इस्तेमाल, ये सदियों पुरानी परंपरा है.

अगर बकरीद पर बेजुबान जानवरों के कत्लेआम पर सुप्रीम कोर्ट रोक नहीं लगा सकता तो दीपावली पर पटाखों पर रोक कैसे लगाई जा सकती है, व प्रदूषण की तो कोई बात ही नहीं है, अन्यथा 1 नवंबर तक पटाखों पर बैन क्यों है, सालों साल होना चाहिए. यह कुछ नहीं बस हिन्दुओं को त्योहारों पर रोक लगाने की एक बड़ी साजिश है.

Loading...