भारत समेत दुनिया को तबाह करने के लिए IS प्रमुख बगदादी ने इस्लामिक स्टेट को इस तरह से बनाया था ISIS

241

सीरिया : जानकारी के अनुसार आपको याद दिला दें कि साल 2003 में अमेरिका के हुए हमले के बाद इराक खत्म हो चूका था. उसके बाद साल 2011 में अमेरिकी जवानों के वापस आने के बाद वहां छोटे-छोटे गुटों ने लड़ना शुरू कर दिया. लड़ने वाले इन गुटों में एक गुट ‘अलकायदा इराक’ का प्रमुख ‘अबू बकर अल बगदादी’ का था. जो पिछले 12 सालों से इराक में पांव जमाने का प्रयास कर रहा है, परंतु उसके पास संसाधन नहीं थे.

भारत समेत दुनिया को तबाह करने के लिए IS प्रमुख बगदादी ने इस्लामिक स्टेट को इस तरह से बनाया था ISIS
अबू बकर अल बगदादी

पटापट जानकारी के अनुसार अमेरिकी जवानों के वपना लौटने के बाद उसने अपने संगठन का नाम रखा ‘इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक’ का नाम दिया. बगदादी ने सद्दाम की सेना के कमांडर और जवानों को मिलाकर शक्ति को बढ़ाना शुरू कर दिया. बगदादी को इराक में बड़ी उपलब्धि न मिलने की वजह से सीरिया का रुख किया जो पहले ही गृहयुद्ध की चपेट में था. वहां पर 4 सालों तक नाकाम रहने के बावजूद संगठन के नाम में सीरिया जुड़ गया और वह ‘आईएसआईएस’ बन गया।

भारत समेत दुनिया को तबाह करने के लिए IS प्रमुख बगदादी ने इस्लामिक स्टेट को इस तरह से बनाया था ISIS
आईएसआईएस

बगदादी ने एक वर्ष में ही बड़े शहरों पर किया कब्जा

सूत्रों से जानकारी के अनुसार पता चला है कि साल 2013 में बाजी पलट गई. सीरिया सरकार के विरुद्ध लड़ रहे ‘फ्री सीरियन आर्मी’ के जनरल ने अपील की और अमेरिका, इस्राइल और जार्डन समेत कई देशों ने वहां हथियार पहुंचा दिए. इन देशों द्वारा पहुंचाए गये हथियार आईएस को मिल गये क्योंकि बगदादी सीरियाई विद्रोहियों में सेंध लगा चुका था. उसके बाद साल 2014 में एक साल के भीतर इस आतंकी संगठन ने सीरिया और इराक के कई बदेस शहरों पर अपना कब्ज़ा जमा लिया. 

भारत समेत दुनिया को तबाह करने के लिए IS प्रमुख बगदादी ने इस्लामिक स्टेट को इस तरह से बनाया था ISIS

साल 2017 में खत्म हो गया आईएसआईएस

2015, 2016 और 2017 में पश्चिमी देशों समेत कई जगहों पर आतंकी हमले हुए। हालांकि अमेरिकी सेना, इराकी सेना और रूस की मदद से सीरियाई सेना अब इस आतंकी संगठन को दोनों देशों की जमीन से साफ कर चुकी है।

कई देशों में अभी जिंदा है आईएस

इराक और सीरिया से सफाया होने के बाद अभी भी आईएस जिंदा है. कई अन्य आतंकी संगठनों से समझौता करके  आईएस संगठन का अस्तित्व बनाए हुए हैं. लीबिया, यमन, अफगानिस्तान में इस संगठन का बहुत प्रभाव है. वहीं चेचन्या, नाइजीरिया समेत कई जगहों को लेकर इनकी मौजूदगी अभी भी बनी हुई है.

भारत समेत दुनिया को तबाह करने के लिए IS प्रमुख बगदादी ने इस्लामिक स्टेट को इस तरह से बनाया था ISIS

आईएस के चंगुल से 46 भारतीय नर्सें हुईं रिहा

भारत सरकार ने साल जून, 2014 में जानकारी देते हुए कहा है कि ‘इराक’ के तिकरित शहर में कार्यरत 46 भारतीय नर्सो का अपहरण कर लिया था. दरअसल यह भी दावा करते हुए कहा था कि सभी नर्से पूरी तरह सुरक्षित हैं. जिसके बाद आतंकी उनको मोसुल ले गए. परंतु ‘भारत सरकार’ ने सऊदी के अधिकारियों और इराक में कार्यरत संगठनों की सहायता से कूटनीतिक कोशिश शुरू की. जिसके बाद इसमें कामयाबी मिली और पांच जुलाई को सभी नर्सों को सुरक्षित ‘भारत’ लाया गया. 

भारत समेत दुनिया को तबाह करने के लिए IS प्रमुख बगदादी ने इस्लामिक स्टेट को इस तरह से बनाया था ISIS

रॉ के पूर्व अधिकारियों द्वारा दी गई  जानकारी के अनुसार सरकार ने पूरी वार्ता को गुप्त रखा, यही करह है कि सफलता मिली है. ऐसा करने के लिए आईएस को किसी तरह की फिरौती भी नहीं दी गई. अपहरण की गई नर्सो में अधिकतर ‘केरल’ से थीं जो कि ‘ईसाई समुदाय’ से जुड़ी थीं। 

loading...