आर्ट हेरिटेज : प्रसिद्ध चित्रकार के.जी. सुब्रह्मण्यन के रचना चित्रों की विशाल प्रदर्शनी बनी आकर्षण का केंद्र

78

त्रिवेणी कला संगम : इंसानी रिश्तों को चित्रों के माध्यम से बयां करना आसान नहीं होता. रिश्तों की कशमकश और उससे निकलते भाव को एक कलाकार ही समझ सकता है। इन दिनों आर्ट हेरिटेज गैलरी में सिगुल फाउंडेशन फॉर द आर्ट्स (Seagull Foundation for the Arts) के सहयोग से दिवगंत कलाकार- के.जी. सुब्रह्मण्यन के रचना चित्रों की एक विशाल प्रदर्शनी आर्ट हेरिटेज गैलरी की शोभा बढ़ा रही हैं. इस प्रदर्शनी का विषय “Women Seen and Remembered” है.

आर्ट हेरिटेज : प्रसिद्ध चित्रकार के.जी. सुब्रह्मण्यन के रचना चित्रों की विशाल प्रदर्शनी बनी आकर्षण का केंद्र

प्रसिद्ध चित्रकार, गुरु, वास्तुशिल्पी, लेखक और पद्म विभूषण से सम्मानित कलाकार के.जी.सुब्रह्मण्यन समकालीन भारतीय कला जगत में एक ऐसे कलाकार थे, जो कला बाजार की शर्तों से ऊपर थे. यही कारण है कि सुब्रह्मण्यन अपने म्यूरल्स के लिए दुनिया भर में मशहूर थे.

आर्ट हेरिटेज कला दीर्घा में आयोजित इस विशाल संग्रह में सुब्रह्मण्यन की कलाकृतियों में ब्रश एवं इंक, पेन एवं इंक, बॉल प्वाइंट, वाटर कलर आदि विधाओं से कलाकृतियों का बनाया गया है, जिसमें देखा गया है कि सुब्रह्मण्यन के चित्रों और स्केच का पचास प्रतिशत विशेष रूप से महिलाओं का है, जिससे पता चलता है कि महिलाएं वास्तव में उनके ध्यान का केंद्र थीं.

आर्ट हेरिटेज : प्रसिद्ध चित्रकार के.जी. सुब्रह्मण्यन के रचना चित्रों की विशाल प्रदर्शनी बनी आकर्षण का केंद्र

1950 और 2000 के दशक के दौरान उनके अभ्यास के छः दशकों में हम देखते हैं सुब्रमण्यम द्वारा रचित चित्रों में महिलाओं की धारणा किस तरह से बदलती है, क्योंकि प्रत्येक चरण में वह अपने मुख्य रूप से पुरुष वर्चस्व वाले वातावरण में अपने गतिशील रूप से बदलते संबंधों को पकड़ने की कोशिश करते है. के.जी.सुब्रह्मण्यन ने अपने चित्रों के माध्यम से अलग-अलग दशकों में महिलाओं की स्थिति को दर्शाया है.

आर्ट हेरिटेज : प्रसिद्ध चित्रकार के.जी. सुब्रह्मण्यन के रचना चित्रों की विशाल प्रदर्शनी बनी आकर्षण का केंद्र

यह विशाल प्रदर्शनी कला प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी हुई है और 9 सितम्बर तक आर्ट हेरिटेज गैलरी में देखी जा सकती है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि के.जी.सुब्रह्मण्यन के चित्रों की प्रदर्शनी देश में नहीं बल्कि विदेशों में भी काफी मशहूर हैं और कला प्रेमियों का मन मोह चुकी हैं. –सागर कुमार

Loading...