RSS के खिलाफ कांग्रेसी नेता ने उगला जहर! प्रतिबन्ध लगाने की शुरआत में ये पहला कदम, फिर से लौटा गुंडाराज, सड़क पर उतरे BJP कार्यकर्ता

88

नई दिल्ली : मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के साथ ही गुंडाराज भी फिर शुरू हो गया है. इतना ही नहीं कर्जमाफी से हताश किसानो की आत्महत्या का सिलसिला शुरू हो गया है. पिछले 10 दिन में चार बीजेपी नेताओं की हत्या कर दी गयी है.

RSS के खिलाफ कांग्रेसी नेता ने उगला जहर! प्रतिबन्ध लगाने की शुरआत में ये पहला कदम, फिर से लौटा गुंडाराज, सड़क पर उतरे BJP कार्यकर्ता
गोविंद सिंह : कांग्रेसी नेता

चुनाव से पहले कमलनाथ ने कहा था हम इनसे निपट लेंगे देख लेंगे और अब वही बदले और नफरत की राजनीति पर उतर आयी है. इतना होने के बाद अब आरएसएस के खिलाफ जहर उगलना शुरू कर दिया है. कांग्रेसी मंत्री ने ऐसे घटिया आरोप आरएसएस को लेकर लगाए हैं, जिससे पता चलता है कि कांग्रेस सरकार आरएसएस पर प्रतिबन्ध लगाने में अब देर नहीं करेगी.

अभी मिल रही बहुत बड़ी खबर के मुताबिक मध्य प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने कथित तौर पर आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ) पर हथियार, बम, एटम बम, ग्रेनेड बनाने और धमाके कराने की बात कही है.

गोविंद सिंह ने कहा कि यो जो राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ है, वो हथियार बनाने की , बम बनाने की , एटम बम बनाने की , हथगोले बनाने की और विस्फोट करने की ट्रेनिंग देती रही है। गौरतलब है कि गोविंद सिंह भिंड जिले के लहार विधानसभा सीट से सात बार विधायक चुने जा चुके हैं। इसके साथ ही गोविंद सिंह दिग्विजय सिंह के कार्यकाल के दौरान गृहमंत्री थे.

RSS के खिलाफ कांग्रेसी नेता ने उगला जहर! प्रतिबन्ध लगाने की शुरआत में ये पहला कदम, फिर से लौटा गुंडाराज, सड़क पर उतरे BJP कार्यकर्ता

गोविंद सिंह ये बयान उस बयान पर दिया है जिसमें भाजपा ने कांग्रेस सरकार पर राज्य की कानून व्यवस्था पर हमला किया था। गोविंद सिंह के इस बयान के बाद पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस बयान को हास्यापद और अज्ञानता भरा बताया है.

गोविंद सिंह के इस बयान के बाद प्रदेश के पूर्व मुखिया शिवराज सिंह चौहान ने पलटवार किया और कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ जी के मंत्री डॉक्टर गोविंद सिंह का बयान कि आरएसएस हथियार, हथगोले बनाने की ट्रेनिंग देता है, हास्यास्पद व अज्ञानता का द्योतक है। उच्च चरित्र निर्माण के लिए 94 वर्ष से निरंतर कार्यरत राष्ट्रवादी संस्था को लेकर ऐसी ओछी बात करना, कांग्रेस का मानसिक दिवालियापन दर्शाता है.

10 दिन में 4 बीजेपी नेताओं की हत्या
बता दें महज एक सप्ताह में हुई 4 राजनीत‍िक हत्याओं और बीजेपी नेताओं पर हमलों का मामला जोर-शोर से उठ रहा है. रविवार को बड़वानी में भाजपा के मंडल अध्यक्ष मनोज ठाकरे को बेरहमी से हत्या के बाद अब इसकी गूंज द‍िल्ली तक सुनाई दे रही है. बीजेपी ने इन हत्याओं को राजनीत‍िक करार द‍िया है और इसके ख‍िलाफ वह सड़कों पर उतर आई है.

रव‍िवार को बड़वानी में भाजपा के मंडल अध्यक्ष मनोज ठाकरे को बेरहमी से मार डाला गया. वह सुबह की सैर पर निकले थे तभी उनकी पत्थरों से कुचलकर हत्या कर दी गई. मनोज के चेहरे पर चोट के गंभीर निशान म‍िले हैं. शव के पास खून से सना हुआ पत्थर भी मिला था. पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है. अभी हत्यारों के बारे में कुछ पता नहीं चल पाया है.

RSS के खिलाफ कांग्रेसी नेता ने उगला जहर! प्रतिबन्ध लगाने की शुरआत में ये पहला कदम, फिर से लौटा गुंडाराज, सड़क पर उतरे BJP कार्यकर्ता
मनोज ठाकरे

रव‍िवार शाम को ही गुना में परमाल कुशवाह नामक युवक को गोली से उड़ा दिया गया, यह युवक भारतीय जनता पार्टी के पालक संयोजक शिवराम कुशवाह का रिश्तेदार था. बीजेपी गुना के इस हत्याकांड में कांग्रेस का हाथ बता रही है.

गुरुवार शाम को मंदसौर नगर पालिका के दो बार अध्यक्ष रहे बीजेपी के नेता प्रहलाद बंधवार की सरे बाजार गोली मारकर हत्या कर दी गई. पालिका अध्यक्ष बंधवार शाम करीब सात बजे जिला सहकारी बैंक के सामने स्थित भाजपा नेता लोकेंद्र कुमावत की दुकान पर बैठे थे. जैसे ही वह बाहर निकले, बुलेट पर सवार एक बदमाश ने पास आकर उनके सिर पर गोली मार दी थी. कोई कुछ समझ पाता, इससे पहले हमलावर बुलेट छोड़कर भाग गया. माना जा रहा है कि हत्यारा पेशेवर शूटर हो सकता है.

RSS के खिलाफ कांग्रेसी नेता ने उगला जहर! प्रतिबन्ध लगाने की शुरआत में ये पहला कदम, फिर से लौटा गुंडाराज, सड़क पर उतरे BJP कार्यकर्ता
कमल नाथ

बुधवार शाम को इंदौर में कारोबारी और बीजेपी नेता संदीप अग्रवाल को सरेआम गोलियों से भून दिया गया, आज तक हत्यारों को अता पता नहीं. इंदौर शहर के सबसे व्यस्ततम चौराहे पर पुलिस थाने से सिर्फ 100 कदम की दूरी पर शहर के चर्चित हाई प्रोफाइल बिल्डर पर अज्ञात हमलावरों ने कई गोलियों से हमला किया था. इसके बाद बिल्डर को गंभीर अवस्था में इलाज के लिए निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इलाज के दौरान ही संदीप अग्रवाल की मौत हो गई.

इस सबसे पता चलता है कि 15 साल बाद मध्यप्रदेश की राजनीति में कांग्रेस ने अपना बदला निकालना शुरू कर दिया है. सारे कांग्रेस नेताओं कार्यकर्ताओं के सर पर गंभीर केस माफ़ करवा दिए गए हैं, और अब उन्हें खुली छूट मिल गयी है अपराध करने की.

loading...