भारतीय वायुसेना को और भी ताकतवर बनाने के लिए मोदी सरकार ने लिया ये जोरदार फैसला! जिससे दुश्मन देशों में मचा हाहाकार…

188

Modi government took this vigorous decision to make the IAF more powerful (नई दिल्ली) : केंद्र की ‘मोदी सरकार’ ने ‘भारतीय वायुसेना’ के 40 से अधिक ‘सुखोई-30’ लड़ाकू विमानों को ‘ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल’ से लैस करने की प्रक्रिया में जल्द से जल्द करने का फैसला लिया है. मोदी सरकार के इस फैसले के  बाद भारत के दुश्मन देशों में मातम पसर गया है.

भारतीय वायुसेना को और भी ताकतवर बनाने के लिए मोदी सरकार ने लिया ये जोरदार फैसला! जिससे दुश्मन देशों में मचा हाहाकार...
नरेंद्र मोदी

ध्यान देने वाली बात यह है कि इस रणनीतिक योजना का उद्देश्य ‘भारतीय वायुसेना’ की युद्धक क्षमताओं को और भी ताकतवर बनाना है. रविवार 9 जून को एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि ‘हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड’ (एचएएल) और ‘ब्रह्मोस एयरोस्पेस लिमिटेड’ को इस परियोजना को बहुत जल्द पूरा करने के निर्देश दिए है ताकि दिसंबर 2020 की निर्धारित समयसीमा से पहले इसे पूरा किया जा सके. 

यह भी पढ़े : पाकिस्तान के नापाक मंसूबो को भारतीय वायुसेना ने हवा किया नेस्तानाबूद!

हालांकि साल 2016 में भाजपा सरकार ने विश्व की सबसे तेज ‘सुपरसोनिक मिसाइल ब्रह्मोस’ को 40 से ज्यादा सुखोई विमानों में तैनात करने का निर्णय लिया था. अधिकारी की माने तो 26 फ़रवरी को ‘बालाकोट एयर स्ट्राइक’ और पाकिस्तान की जवाबी कार्रवाई के बाद ‘भारतीय वायुसेना’ को शक्तिशाली करने की समीक्षा की गई. 

भारतीय वायुसेना को और भी ताकतवर बनाने के लिए मोदी सरकार ने लिया ये जोरदार फैसला! जिससे दुश्मन देशों में मचा हाहाकार...

सूत्रों की माने तो परियोजना को जल्द से जल्द पूरा करना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए. ‘राफेल’ लड़ाकू विमानों के सेना में शामिल होने पर ‘एस-400’ डिफेंस मिसाइल सिस्टम और सुखोई को ब्रह्मोस से लैस करने पर पाकिस्तानी वायुसेना के मुकाबले हमारी वायुसेना को काफी मजबूती मिलेगी. 

भाजपा सरकार ले रही है अहम फैसले 

आपको बता दें कि वायुसेना की युद्धक क्षमता में इजाफा करने के लिए भाजपा सरकार कई फैसले ले रही है. जिसके अंतर्गत एचएएल को खासतौर पर ‘ब्रह्मोस परियोजना’ में तेजी लाने के लिए अतिरिक्त मानवश्रम और संसाधनों को लगाने का आदेश दिया है. सूत्रों की माने तो इस परियोजना के पूरा होने के बाद वायुसेना की समुद्र और जमीन पर बड़ी रेंज से लक्ष्यों को तबाह करने की क्षमता में इजाफा हो जाएगा.

भारतीय वायुसेना को और भी ताकतवर बनाने के लिए मोदी सरकार ने लिया ये जोरदार फैसला! जिससे दुश्मन देशों में मचा हाहाकार...

आपको याद दिला दें कि 22 नवंबर, 2017 को ब्रह्मोस के एयर लॉन्च वैरिएंट का ‘सुखोई-30’ विमान से सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया था, जो वायुसेना की सटीक मारक क्षमता को बढ़ाने के लिए एक मील का पत्थर था.

loading...