करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भारत के जोरदार दबाव के सामने पाकिस्तान ने टेके घुटने! खालिस्तान समर्थक के खिलाफ लिया ये बड़ा एक्शन…

183

Pakistan bend in front of India’s strong pressure on Kartarpur corridor (नई दिल्ली) : अभी-अभी ‘भारत’ के लिए बड़ी खबर आई है. जहां भारत के दबाव के बाद ‘पाकिस्तान’ ने करतारपुर कॉरिडोर को लेकर बड़ा फैसला लिया है. सूत्रों की माने तो ‘करतारपुर कॉरिडोर’ को लेकर भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों के बीच दूसरे राउंड की मुख्य बातचीत होने में अब केवल एक दिन का समय बचा है.

करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भारत के जोरदार दबाव के सामने पाकिस्तान ने टेके घुटने! खालिस्तान समर्थक के खिलाफ लिया ये बड़ा एक्शन...

इससे पहले पाकिस्तान ने भारत के दबाव के आगे घुटने टेकते हुए ‘मुंबई हमले’ के मास्टरमाइंड ‘हाफिज सईद’ के खास गुर्गे और खालिस्तान समर्थक ‘गोपाल सिंह चावला’ को ‘पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी’ (पीएसजीपीसी) से हटा दिया है.

यह भी पढ़े : करतारपुर कॉरिडोर को लेकर अपनी असफलता को छिपाने के लिए पाकिस्तान ने भारत पर लगाया ये घिनौना आरोप…

आपको बता दें कि भारत ने चावला को करतारपुर कमेटी में शामिल किए जाने पर कड़ा ऐतराज जताया था. जिसका नतीजा यह रहा कि दो अप्रैल 2019 को होने वाली बाचतीत को रद्द कर दिया था. रविवार 14 जुलाई को ‘अटारी-वाघा बॉर्डर’ पर होने वाली बैठक से पहले ‘पाकिस्तान सरकार’ ने चावला को कमेटी से बाहर कर दिया है.

करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भारत के जोरदार दबाव के सामने पाकिस्तान ने टेके घुटने! खालिस्तान समर्थक के खिलाफ लिया ये बड़ा एक्शन...

ध्यान देने वकली बात यह है कि पाकिस्तान में स्थित सभी गुरुद्वारों की देखरेख पीएसजीपीसी करती है. जिसमें ‘करतारपुर गुरुद्वारा और कॉरिडोर’ भी आता है. शुक्रवार 12 जुलाई को ‘इमरान सरकार’ ने एसजीपीसी सदस्यों से संबंधित अधिसूचना देर रात जारी की है. नई अधिसूचना में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के चार सदस्य, उत्तरी खैबर पख्तूख्वा के तीन, सिंध के दो और बलूचिस्तान के एक सदस्य का नाम शामिल हैं.

भारत ने अतीत में कई मौकों पर पाकिस्तान के सिख तीर्थस्थलों में खालिस्तानी प्रचार को लेकर अपनी चिंता जाहिर की हैं. उम्मीद है कि इस बार करतारपुर बातचीत के दौरान इस मामले को फिर से उठाया जाएगा. पाकिस्तान दूसरे राउंड की बातचीत के दौरान भारत के सामने कई मुद्दों को उठाएगा. जिसमें अनुमति प्राप्त आगंतुकों की संख्या, बुनियादी ढांचे, तीर्थ यात्रियों की रक्षा और सुरक्षा शामिल होगी.

करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भारत के जोरदार दबाव के सामने पाकिस्तान ने टेके घुटने! खालिस्तान समर्थक के खिलाफ लिया ये बड़ा एक्शन...

सूत्रों की माने तो यह बातचीत सुबह के नौ बजे बैठक शुरू होकर दोपहर को एक बजे चलेगी. इसके बाद दोनों देश अलग-अलग मीडिया से बातचीत करेंगे. भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व ‘गृह मंत्रालय’ के संयुक्त सचिव (आंतरिक सुरक्षा) ‘एससीएल दास’ और विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव (पाकिस्तान, अफगानिस्तान और ईरान) ‘दीपक मित्तल’ करेंगे. दूसरी तरफ पाक की और से दक्षिण एशिया और सार्क महानिदेशक ‘डॉ. मोहम्मद फैसल’ करेंगे.

loading...