श्रीनगर हवाई अड्डे पर तोड़फोड़ करने के बाद बांग्लादेश से आए छात्रों ने कोरोना टेस्ट से किया इनकार

39

नई दिल्ली : सरकार देश में कोरोना के बढ़ते कहर को रोकने के लिए तमाम तरह की पाबंदियाँ लगा रही है। विदेशों से आने वाले यात्रियों की एयरपोर्ट पर ही जाँच हो रही। लेकिन गुरुवार को बांग्लादेश से पहुँचे कुछ छात्रों ने श्रीनगर में कोरोना की जाँच कराने से इनकार कर दिया। छात्रों ने न सिर्फ विरोध किया बल्कि श्रीनगर एयरपोर्ट के रिसेप्शन में तोड़फोड़ भी की। इसके बाद छात्रों को पुलिस ने हिरासत में लेकर कोरोना जाँच के लिए नियत केन्द्रों में भेज दिया।

श्रीनगर हवाई अड्डे पर तोड़फोड़ करने के बाद बांग्लादेश से आए छात्रों ने कोरोना टेस्ट से किया इनकार

गुरुवार की रात को जब बांग्लादेश से श्रीनगर हवाईअड्डे पर 160 से अधिक छात्र जैसे ही पहुँचे, वहाँ मौजूद अधिकारियों ने उनसे जाँच में सहयोग करने की अपील की। इस पर छात्रों ने अपनी जाँच कराने से साफ इनकार कर दिया। इसके बाद छात्र हवाई अड्डे पर हंगामा करने लगे। छात्रों ने रिसेप्शन में सामान को बिखरते हुए वहाँ लगी काँच की खिड़कियों को तोड़ दिया। छात्रों के साथ वहाँ मौजूद उनके अभिवावकों ने भी हंगामा करना शुरू कर दिया।

इस मामले में एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि बांग्लादेश से कुछ छात्र श्रीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पहुँचे थे। बडगाम जिला मजिस्ट्रेट के निर्देशानुसार कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर एहतियात के तौर पर इन छात्रों को पृथक रखा जाना था, जिसका छात्रों ने विरोध किया। हालाँकि बाद में सभी को पहले से नियत जाँच केन्द्र में भेज दिया गया।

आपको बता दें कि बीते दिन ही पाकिस्तान में पढ़ाई करने के लिए गए 14 कश्मीरी छात्र भारत लौट आए। बाघा बॉर्डर से भारत आए सभी छात्रों को कोरोना जाँच के लिए सेंटर में भेज दिया गया। हालांकि ट्विटर पर लोगों ने कश्मीरी छात्रों के पाकिस्तान में पढ़ाई पर सवाल खड़ा करते हुए लिखा था कि पाकिस्तान में पढ़ाई के लिए कौन जाता है भाई? इतना ही नहीं दुबई से लौटे चार युवकों ने भी कोरोना की जाँच न कराने के लिए कर्नाटक में डॉक्टरों को धमकाया था। इनका कहना था कि इस्लाम मेडिकल टेस्ट की इजाजत नहीं देता। इस बीच केरल के क्वारेंटाइन से फरार हुआ व्यक्ति बोगाईगॉंव रेलवे स्टेशन पर पकड़ा गया। वह असम का रहने वाला है। पकड़े जाने के बाद उसे रेलवे हॉस्पिटल के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है।

देश में कोरोना वायरस के चलते देश में गुरुवार को चौथी मौत हो गई थी। वहीं वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ कर 173 हो गई है। इसकी रोकथाम के लिए राज्य अपने-अपने स्तर पर भी पाबंदियाँ लगा रहे हैं। गुरुवार रात को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की अपील की थी।

loading...