केंद्र सरकार ने अखिलेश यादव को मिली ‘जेड प्लस सुरक्षा’ को लेकर लिया ये धमाकेदार फैसला! जिससे सपा में मचा हडकंप…

297

The Central Government took a bold decision about Akhilesh Yadav’s ‘Z plus security’ (नई दिल्ली) : अभी-अभी ‘केंद्र सरकार’ की तरफ से उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष ‘अखिलेश यादव’ को लेकर बड़ी खबर आई है. जिसके बाद अखिलेश की मुश्किलें बढ़ने वाली है. सूत्रों की माने तो केंद्र सरकार अखिलेश यादव से जेड सुरक्षा वापस लेने की तैयारी में है.

अखिलेश यादव को मिली से 'जेड प्लस सुरक्षा' को लेकर केंद्र सरकार ने लिया धमाकेदार फैसला! जिससे सपा माँ मचा हडकंप...

ध्यान देने वाली बात यह है कि ऐसे कम से कम दो दर्जन अन्य वीआईपी की सुरक्षा भी या तो वापस ली जाएगी या उसमें कटौती की जाएगी. इस संबंध में बहुत जल्द ही आधिकारिक आदेश पारित किया जाएगा.

यह भी पढ़े : मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव को लगा ये जोरदार झटका!

सोमवार 22 जुलाई को अधिकारियों ने जानकारी देते हुए कहा कि ‘गृह मंत्रालय’ ने ‘केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल’ के तहत दी जाने वाली वीआईपी सुरक्षा की व्यापक समीक्षा के बाद ‘अखिलेश यादव’ को मिली ‘एनएसजी सुरक्षा’ वापस लेने का अहम निर्णय किया है. 

अखिलेश यादव को मिली से 'जेड प्लस सुरक्षा' को लेकर केंद्र सरकार ने लिया धमाकेदार फैसला! जिससे सपा में मचा हडकंप...

अभी यह साफ नहीं हुआ है कि अखिलेश की केंद्रीय सुरक्षा में कटौती की जाएगी या यह पूरी तरह वापस ले ली जाएगी. दरअसल सपा के वरिष्ठ नेता ‘मुलायम सिंह यादव’ केंद्र सरकार से मिली एनएसजी ‘ब्लैक कैट’ सुरक्षा जारी रहेगी. गृह मंत्रालय ने खतरे को देखते हुए केंद्र और राज्य (उत्तर प्रदेश) की खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के आधार यह फैसला लिया है.

यूपीए सरकार ने दी थी अखिलेश यादव वीआईपी सुरक्षा

सूत्रों की माने तो अखिलेश यादव को वीआईपी सुरक्षा 2012 में ‘यूपीए सरकार’ के दौरान प्रदान की गई थी. अभी अखिलेश की सुरक्षा में अत्याधुनिक हथियारों से लैस एनएसजी दस्ते के करीब 22 कमांडो तैनात हैं.

अखिलेश यादव को मिली से 'जेड प्लस सुरक्षा' को लेकर केंद्र सरकार ने लिया धमाकेदार फैसला! जिससे सपा में मचा हडकंप...

देश के 13 विशिष्ट नेताओं के पास है एनएसजी सुरक्षा

आपको बता दें कि फिलहाल 13 विशिष्ट नेताओं को आतंक रोधी बल (एनएसजी) की सुरक्षा मिली हुई है. जिनमें राजनाथ सिंह, यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, आंध्र प्रदेश के पूर्व सीएम ‘चंद्रबाबू नायडू’ और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ‘फारूक अब्दुल्ला भी शामिल हैं.

loading...