दुष्कर्म के आरोपी आसाराम को न्यायलय ने दिया ये करारा झटका! जिससे आसाराम की बढ़ी मुश्किलें

19

The court gave the Asaram the accused of misbehavior, the blow! Asaram’s increased difficulties (जोधपुर) : दुष्कर्म के आरोप में ‘राजस्थान’ की ‘जोधपुर सेंट्रल जेल’ में कैद आरोपी ‘आसाराम’ को न्यायालय ने जोरदार झटका दिया है. सूत्रों की माने तो ‘जोधपुर जिला पैरोल कमेटी’ ने आसाराम बापू की 20 दिनों की पैरोल याचिका को खारिज कर दिया है.

दुष्कर्म के आरोपी आसाराम को न्यायलय ने दिया ये करारा झटका! जिससे आसाराम की बढ़ी मुश्किलें
आसाराम

ध्यान देने वाली बात यह है कि आसाराम पर बलात्कार और हत्या के मामले में जेल में बंद है. आपको याद दिला दें साल 2013 में आसाराम ने राजस्थान के जोधपुर स्थित अपने आश्रम में 16 साल की एक लड़की के साथ दुष्कर्म करने के मामले में जोधपुर की अदालत ने आसाराम को दोषी करार दिया और उम्रकैद की सजा सुनाई थी. आसाराम अब ‘जोधपुर सेंट्रल जेल’ में बंद है.

यह भी पढ़े : सलमान से मिलने आने वालों को देखकर भड़के आसाराम!

आपको बता दें कि ‘साबरमती नदी’ के किनारे एक झोंपड़ी से शुरुआत करने से लेकर देश और दुनियाभर में 400 से अधिक आश्रम बनाने वाले आसाराम ने चार दशक में 10,000 करोड़ रुपये का साम्राज्य खड़ा कर लिया था.

दुष्कर्म के आरोपी आसाराम को न्यायलय ने दिया ये करारा झटका! जिससे आसाराम की बढ़ी मुश्किलें

सूत्रों की माने तो आसाराम और चार अन्य सहआरोपियों के खिलाफ पुलिस ने पॉक्सो अधिनियम, किशोर न्याय अधिनियम और भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत 6 नवंबर 2013 को पुलिस ने आरोपपत्र दायर किया था. पीड़िता ने आसाराम पर उसे जोधपुर के नजदीक मनाई इलाके में आश्रम में बुलाने और 15 अगस्त 2013 की रात उसके साथ बलात्कार करने का आरोप लगाया था.

आपको बता दें कि पीडिता ‘उत्तर प्रदेश’ के ‘शाहजहांपुर’ की रहने वालीमध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा स्थित आसाराम के आश्रम में पढ़ाई कर रही थी. जब इस मामले में आसाराम दोषी पाया गया और सजा मिलने के बाद पीड़िता के पिता ने कहा कि हमें न्यायपालिका पर पूरा विश्वास था और हमें खुशी है कि न्याय मिला.

दुष्कर्म के आरोपी आसाराम को न्यायलय ने दिया ये करारा झटका! जिससे आसाराम की बढ़ी मुश्किलें
जोधपुर जेल

इस्गे आगे पीडिता के पिता ने कहा कि परिवार लगातार दहशत में जी रहा था और इसका उनके व्यापार पर भी काफी असर पड़ा. आसराम को लेकर न्यायालय के फैसले के बाद जोधपुर जेल के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी गई थी, जहां पहले से निषेधाज्ञा लागू थी.

loading...