ओवैसी की रैली में मंच से खुलेआम लगे ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे, पार्टी नेता ने हिंदुओं के खिलाफ उगला जहर

19

नई दिल्ली : हैदराबाद के सांसद और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (AIMIM) के अध्यक्ष और असदुद्दीन ओवैसी के मंच से खुलेआम ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए जाने की शर्मनाक घटना सामने आई है। दरअसल बेंगलुरु में गुरुवार को ओवैसी ने CAA विरोधी रैली की। इसी दौरान एक लड़की मंच पर चढ़ गई और पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने लगी। इससे पहले एक विडियो सामने आया था जिसमें AIMIM का पूर्व विधायक वारिस पठान हिंदुओं को धमका रहा था।

ओवैसी की रैली में मंच से खुलेआम लगे ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे, पार्टी नेता ने हिंदुओं के खिलाफ उगला जहर
ओवैसी के मंच से लगे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे

पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगने के बाद रैली में हंगामा मच गया। ओवैसी के चेहरे पर हवाइयाँ उड़ने लगीं। नारे लगाने वाली लड़की को वहाँ मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने जबरन मंच से उतारा। इससे पहले ओवैसी और उनके साथी लड़की से नारेबाजी बंद करने के लिए कहते रहे। लेकिन लड़की नहीं रुकी और उसने मंच पर जमकर हंगामा किया।

बेंगलुरु के फ्रीडम पार्क में ओवैसी ने नागरिकता कानून के विरोध में रैली आयोजित की थी। लड़की ओवैसी के मंच पर पहुँची और माइक पर ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाने लगी। जब मंच पर मौजूद लोगों ने उससे माइक छीनने की कोशिश की तो लड़की ने ‘हिन्दुस्तान जिंदाबाद’ के भी नारे लगाए। आखिरकार किसी तरह से पुलिस उसे मंच से खींचकर नजदीकी पुलिस स्टेशन ले गई।

पाक परस्त लड़की द्वारा ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाने वाले इस विडियो के वायरल होने के बाद इस रैली का ही एक पूरा विडियो शेयर किया गया है।

ओवैसी की इस रैली में पाकिस्तान जिंदाबाद नारे लगने के बाद सोशल मीडिया पर यह विडियो तेजी से शेयर किया जा रहा है। आज तक के पत्रकार रोहित सरदाना ने फैक्ट चेक करने वालों पर व्यंग्य करते हुए लिखा है कि इससे पहले कि जनता इसे कुछ और ही समझ ले, इसका फैक्ट चेक कर लो।

पत्रकार रोहित सरदाना ने लिखा है- “अरे अरे अरे! ‘फ़ैक्ट चेक’ करो भाई! जल्दी करो, इसके पहले कि पब्लिक कुछ और मान ले…बोल दो, लड़की ‘चंदा मामा दूर के’ बोल रही थी!”

इस वीडियो के सामने आने से पहले ही AIMIM के पूर्व एमएलए वारिस पठान के भाषण का एक विडियो सामने आया था। यह विडियो गुलबर्ग रैली के दौरान दिए भाषण का था, जिसमें वारिस पठान सीएए के ख़िलाफ़ बोलते हुए वहाँ मौजूद भीड़ को मोदी-शाह के अलावा हिंदुओं के ख़िलाफ़ भड़काते दिख रहा है। विडियो में वारिस को कहते सुना जा सकता है कि उनकी (मुसलमानों की) संख्या अभी 15 करोड़ है, लेकिन ये 15 करोड़ 100 करोड़ पर भारी है। अगर ये 15 करोड़ साथ में आ गए, तो सोच लो उन 100 करोड़ का क्या होगा?

loading...